Whatsapp Privacy Policy Law Kab Hoga Implement

Whatsapp Privacy Policy – आज के समय मे हम सभी WhatsApp का इस्तेमाल अपने दोस्तों और रिस्तेदारो से बात करने के लिए करते है। और रोज़ जाने कितने लोग इसके द्वारा एक दूसरे से communicate करते है। लेकिन आप ने कभी ये सोच है कि WhatsApp हमे free में services को इस्तेमाल क्यो करने देता है।

WhatsApp आप सभी लोगो को अपनी services free में use तो करने देता है लेकिन इसमें बदले वो लोग users का data रख लेते है। यह data एक व्यक्ति का daily routine होता है जैसे कि आप अपने mobile में क्या करते है। आप कितने समय तक internet को use करते है। आपको दिन में कितने वक़्त WhatsApp use करना पसंद है। आदि, लेकिन अब आप ये सोच रहे होंगे कि इससे आपको क्या नुकसान है। इतने से data के बदले वो लोग आपको इतनी मंहगी चीज़े free में provide तो करते है। परन्तु आपका data ही उनके लिए पैसा हैं। और इस data को use करके ही WhatsApp users को relevant ads दिखता है। साथ data को दूसरी companies को setup और उनके लिए सही ग्राहक ढूंढने के लिए भी use करता है।

लेकिन वही company अगर आपका data किसी और व्यक्ति के साथ share करे जहाँ आपका number, आपके family members के number आपकी daily activity की detail, आप क्या खाते है क्या online order करते है, और कहाँ जाते है। तो आपको परेशानी हो सकती है। लेकिन हाल में WhatsApp एक ऐसी ही policy को लेकर आया है जहाँ आपका data Facebook के साथ share किया जाएगा तथा वो लोग अब आपकी personal activities को देखेंगे।

तो चलिए अब विस्तार से जानते है कि WhatsApp की क्या है नई privacy policy और क्यो यह उनके लिए मुसीबत बन हुआ है। तथा अगर अपने इस नई policy को accept नही किया तो क्या हो सकता है।

WhatsApp Privacy Policy Law कब हो रहा implement

whatsapp new privacy policy

WhatsApp की नई privacy और policy law शुरू से ही विवादों का विषय बनी हुई है। जिसका सबसे बड़ा कारण है कि यह नया privacy policy law WhatsApp का किसी भी European country में लागू नही होगा जो भी European union के members है। और बाकी  की सभी countries में इसे implement किया जाएगा। साथ ही इसमे कुछ ऐसी चीज़ें शामिल है जो कि users को बिल्कुल भी पसन्द नही आ रही है। जिसके कारण इसके खिलाफ supreme court में भी याचिका डाली गई थी।

लेकिन यह नई policy का WhatsApp की तरफ से पहले  8 फरवरी को dead line रखा गया था और कहा गया था कि जो भी user इसको accept नही करेगा उज़के account delete कर दिया जाएगा। मगर जब WhatsApp की किरीरी हुई, तो उसने कहा कि वो लोगो को अपने नए policy के बारे में पहले सही से संझायेगे और इसको accept करने की date बढ़ा कर 15 मई कर दी। तथा यह अब नई आखरी date है। और अगर अपने WhatsApp की नई privacy policy को 15 मई तक accept नही किया तो आपका account सही से काम नही करेगा। तथा हो सकता है कि आपको messages को पढ़ने में और send करने में problems आये। जो कि आप नही चाहेगे।

क्यो है WhatsApp का यह नया privacy policy इतना विवादित

WhatsApp के नए privacy और policy में कुछ changes किये गए है। जिसको accept करना 15 may के बाद जरूरी होगा। और नही किया तो आप WhatsApp को सही से use नही कर पाएंगे। लेकिन क्या है इस नए privacy policy में, तो चलिए कुछ important चीज़े आपको बताते है।

इस नए privacy policy में अब WhatsApp cross platforms को support अच्छे से करेगा, जहाँ आपका data WhatsApp Facebook के साथ share करेगा ताकि ecommerce capabilities को बेहतर किया जा सके। साथ ही अब आप WhatsApp business account से products की details जान पाएंगे और contact कर पाएंगे direct dealer या seller से। मगर यहाँ एक चीज़ है जो कि लोगो के बीच मे गलत फहमी बनी है वो ये की अब WhatsApp लोगो के personal calls और chat भी देखेगा। लेकिन ऐसा नही है। WhatsApp पर सभी के calls और chats end तो end encrypted ही रहेंगे। और WhatsApp किसी की chat और calls नही देखेगा और सुनेगा। details में जानने के लिए आप WhatsApp के privacy policy page को पढ़ सकते है।

अगर आप ने नहीं किया नए Privacy Policy को Accept तो क्या होगा आपके Account पर इसका Impact

अगर अपने अभी तक WhatsApp के privacy policy को accept नहीं किया, तो अब आप अपने account के calls, messages, और notifications जैसे features को खो देंगे। आप इन सब का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। और अगर आप अपना WhatsApp account 120 दिनों तक, अगर एक बार भी use नही करते तो आपका WhatsApp account permanently delete कर दिया जाएगा। इसलिए अगर आप अपना WhatsApp को use करना चाहते है तो आपको इसके privacy policy को मई 15 के पहले accept करना होगा। हालांकि इसे accept करने में आपकी निजी जानकारी को नुकसान हो सकता है ऐसे में ये निर्णय आपको लेना है कि आप इस policy को accept करना चाहते है या नहीं। जैसा की हम सब जानते है WhatsApp और Facebook के owner एक ही है और Facebook की reputation हम सबको पता है इसलिए हमे अपनी privacy के साथ compromise नही करना चाहिए।

क्या है whatsapp के Alternative options

अगर आप WhatsApp की नई privacy  और policy से खुश नही है और आप WhatsApp leave करना चाहते है तो आपके पास आज के समय कई प्रकार के options है जहाँ आप same WhatsApp जैसे features को use कर पाएंगे। तो चलिए जानते है कि ऐसे कौन से apps है जो कि WhatsApp की जगह आप use कर सकते है।

  • Telegram – telegram आज के समय मे सबसे ज्यादा India इस्तेमाल किए जाने वाला दूसरा instant messaging app है। और यहाँ आप कई प्रकार की चीज़ें कर सकते है। जैसे कि stickers को download कर सकते है। 1 gb तक कि video files और documents को भी share कर सकते है। इसके साथ ही आप group और channels बना कर भी लोगो को अपने साथ connect कर सकते है। साथ ही यह आपके data को भी किसी के साथ share नही करते है।
  • Signal – signal आज के समय मे नए और सबसे ज्यादा secure instant messaging app है। जहाँ आप अपने दोस्तों के साथ group chat, group calling और audio calls भी कर सकते है। यहाँ आपके data किसी भी third party के साथ share नही किया जाता है और यह mobile और computer दोनों ही platforms के लिए उपलब्ध है। इसके साथ ही इसमे आपका data आपके mobile में भी encrypted save होता है।

क्या आपको करना चाहिए नए privacy policy को accept

अगर आपको WhatsApp को use करना है जो कि शायद सभी को आज के समय मे करना ही होगा, क्योंकि सभी के family members और friend’s आज के समय मे WhatsApp का ही use कर रहे है। तो ऐसे में अगर आपको लगता है आप अपना data दुसरो के साथ share करने मे comfortable है तो आप WhatsApp के नए policy को accept कर सकते है। लेकिन जो लोग इस policy के साथ comfortable नही है और उनको लगता है कि अब WhatsApp leave कर देना चाहिए तो वो लोग दूसरे platform की तरफ जा सकते है जो कि उनमे से सबसे अच्छा signal app है।

अंत मे,

दोस्तो आज के समय मे data ही एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा companies आप पर हर वक़्त नज़र रख सकती है और आपके data को use करके ही वो लोग पैसे कमा रहे है।

आपको अपने privacy की इस digital world में जरूर चिंता करनी चाहिए और किसी को भी data ऐसे ही access नही करने देना चाहिए। आपको जो भी trusted लगे और जहाँ जितनी access की जरूरत हो उतना ही उस app को access देना चाहिए।  अगर आप लोगो को हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इस post को अपने दोस्तों के साथ जरूर share करे।

Join Our Telegram Group

Read More

Mr. Samir HFT के Co-Author & Founder है इन्हे हमेशा से नयी चीजे सिखना और उसे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. अगर आपको इनके द्वारा शेयर की गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप इन्हे Social Media पर फॉलो कर सकते है। Thank You!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here