USB का Full Form क्या होता है? ये कितने प्रकार के होते है!

USB का Full Form क्या होता है? – यूएसबी आज के समय मे उपयोग होने वाली सबसे important device है जिसकी मदद से आप किसी भी प्रकार की Computer data को आसानी से और तेज़ी के साथ transfer कर सकते है। साथ ही इसका सबसे बड़ा benefit यह है कि ये plug and play device है जिसके लिए आपको USB के द्वारा एक computer से दूसरे computer को connect करने के लिए किसी software की जरूरत नही पड़ती है।

आज market में आप अक्सर देखते होंगे कि सभी computer connecting device जैसे कि keyboard, mouse, pen drive, card readers, external hard drive इन सभी device को computer से connect करने के लिए USB cable का ही उपयोग होता है क्योंकि यह short range wire के द्वारा cover कर सकता है और आपके computer को device से connect कर के रख सकता है।इसके अलावा आप एक computer usb से 256 USB devices को भी connect कर सकते है।

USB device को develop करने का यही मकसद था कि कोई ऐसा device हो जो एक computer को दूसरे computer या device से जल्दी connect कर सके और data को अधिक तेजी से और अधिक मात्रा में transfer कर सके। इससे पहले computer के लिए बहुत से प्रकार के connectors का उपयोग होता था जैसे कि अगर आपके पास पुराने समय का keyboard या mouse होगा तो अपने ज़रूर देखा होगा कि उसमे USB जैसा port न होकर कुछ अलग design का port होता था जो कि plug एंड play नही हुआ करता था

और यदि आप उनको computer on होने के बाद plugin करते थे तो वो work नही करता था। तो चलिए अब USB device क्या है और USB का full form क्या होता है (USB full form in Hindi) तथा इसके types और फायदे और नुकसान के बारे में भी जान लेते है।

USB क्या है – Full Form of USB

what is the full form of usb

USB का full form होता है “Universal Serial Bus” और इसका इस्तेमाल computer से mobile, printer, mouse, keyboard जैसे devices को connect करने के लिए किया जाता है। USB हमे बहुत ही अच्छा speed provide करवाते है जिससे हम अपना digital data आसानी से transfer कर सकते है.

साथ ही आप USB का इस्तेमाल electric power supply के लिए भी कर सकते है जैसे कि आज हम अपने mobile को charge करने के लिए भी इस्तेमाल करते है। सबसे पहले USB का commercial इस्तेमाल January 1996 में किया गया था और launch के बाद ही इस technology को सभी बड़े companies inlet, Microsoft, Compaq के द्वारा अपना लिया गया था.

क्योंकि उनको मालूम था कि यह next generation technology है और आने वाले समय मे इसका बेहतर इस्तेमाल किया जा सकता है। आज आप जितने भी computer और mobile देखते होंगे उनमें अब USB ही दिया गया होता है चाहे वो charging के लिए हो या data transfer करने के लिए।

इसका इस्तेमाल दोनों चीज़ों में हो रहा है। लेकिन जो mobile में USB होते है वो एक side से standard USB port वाले होते है और जो mobile में pin insert होता है वो mini USB होता है। लेकिन आज USB port type c का जमाना है क्योंकि यह पुराने USB के मुकाबले बहुत ही fast data को transfer कर सकते है।

USB के कितने प्रकार है।

आप अक्सर देखते होंगे कि USB CABLES आज market में कई प्रकार के उपलब्ध होते है और आपने अक्सर उनके नाम भी सुने होंगे जैसे कि USB type-A, USB Type-B, USB Type-C और इनके function क्या होते है चलिए details में जानते है।

USB Type-A

यह USB Port आपको सभी जगह देखने को मिल जाता है ये वो USB port होता है जो कि computer में insert होता है और इसका इस्तेमाल mobile charging cable के तौर पर भी होता है। यह USB Port आपको सभी प्रकार के latest USB keyboard, USB Mouse में देखने को मिल जाएगा। USB को Keyboard और Mouse में इस्तेमाल करने का एक main reason ये है कि एक तो आपके mouse और keyboard में electricity flow होता है रहता है और उसके साथ साथ आपका data भी तेजी से transfer करता रहता है इसके साथ साथ उनको connect करने में भी आसानी होती है सिर्फ plug करो और ये काम करने के लिए ready होता है।

USB Type-B

ये आज के समय मे बहुत ही कम इस्तेमाल किया जाता है इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से printers को computer से connect करने के लिए किया जाता है। और आप यह भी कह सकते है अब इसका इस्तेमाल लगभग खत्म ही होने वाला हो गया है क्योंकि अब printer wireless आ चुके है जिसको अपने computer या phone से आप आसानी से WiFi के द्वारा connect कर सकते है और print निकाल सकते है।

USB Type-C

ये आज के market में latest USB है इसकी खास बात यह है कि ये high speed data को transfer कर सकता है लगभग 400 Mbps से लेकर 5 Gbps तक, इसका इस्तेमाल mobile phones के mini USB के तौर पर किया जा रहा है जो कि एक side standard होता है और mobile connector की side से यह छोटा round curved जैसा होता है। इसकी एक और खास बात यह है कि ये fast charging support करता है।

आपने आज के समय मे कई जगह पे सुना होगा कि आज ज्यादातर companies के mobile fast charging support करते है और बहुत ही जल्दी उनकी battery full charge हो जाती है। इसके पीछे की वजह है USB type C जो कि high speed data transfer rate के साथ fast charging भी support करता है।

USB 3.0 क्या है और आज के समय मे इसका अधिक उपयोग क्यों हो रहा है।

USB 3.0 की data transfer speed 5 gbps तक कि  देखने को मिल जाएगी। यह भी standard USB ही है लेकिन इसमे extra pin दी गयी होती है जो कि data transfer rate को बढ़ा देती है। इसकी खाश बात यह है कि ये USB 2.0 version के साथ भी capable है और उसके साथ भी उतनी ही आसानी से work करता है.

जितनी कि USB 3.0 में करता है। लेकिन यदि आप USB 3.0 Speed का आनंद लेना चाहते है तो उसके लिए आपका device भी USB 3.0 supported होना चाहिए तभी आप इसको इस्तेमाल कर पाएंगे। फिलहाल जितने भी पहले के laptop या computer थे वो सभी USB 2.0 तक ही support करते थे.

लेकिन जो आज के समय मे जो नई computer और mobile devices उपलब्ध हो रही है वो सभी USB 3.0 और USB 3.1 supported होती है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि USB 3.1 की data transfer speed लगभग 10gbps की होती है जो कि super fast speed है अभी तक कि लेकिन technology समय के साथ साथ पुरानी भी हो जाती है और उसकी जगह कोई नई technology ले लेती है।

USB के Advantage और disadvantage क्या है।

तो चलिए अब USB के कुछ advantage और disadvantage के बारे में जान लेते है।

Advantages

  • यह device plug and play होते है और इनका इस्तेमाल कभी भी कही भी कर सकते है। चाहे on device हो उस वक़्त भी इस्तेमाल कर सकते है।
  • यह automatically configure हो जाता है और इसका driver भी auto install हो जाता है जब भी आप इसको computer device के साथ connect करते है।
  • USB की मदद से 256 devices को अपने computer के साथ connect कर सकते है जो कि बहुत ही large number है।
  • इसमें आपको किसी external power source की जरूरत नही पड़ती है।
  • इसकी data transfer rate बहुत ही अधिक है।
  • यह अन्य cables के मुकाबले बहुत ही सस्ते होते है और आपको market में लगभग 200₹ से लेकर 500₹ तक के बीच मे मिल जाते है।

Disadvantage

  • इसमें peer तो peer communication होता है इसका मतलब यह है कि एक source से direct दूसरे source तक communication होता है और बीच मे कोई भी चीज़ नही होती है।
  • आप इससे broadcasting नही कर सकते है।
  • यह long range distance के लिए सही नही है।

Tips

आज आपने इस post में जाना है कि USB क्या है इसका Full Form क्या होता है (USB Full Form In Hindi) और इसका उपयोग सभी जगह क्यों बढ़ गया है खाश कर computer और mobile के श्रेत्र में,

दोस्तों technology हर रोज़ कुछ न कुछ बदलती जा रही है और हमेशा वक़्त भी एक जैसा नही होता है हालांकि पहले के जो USB device थे वो first generation के थे जो कि दूसरे पुराने data transfer device के मुकाबले अच्छे थे, लेकिन फिर भी आज हम USB 3.1 का उपयोग कर रहे है हालांकि यह अभी बहुत ही कम लोगो के पास उपलब्ध है

तथा आज भी लोग USB 2.0 का ही अधिक इस्तेमाल कर रहे है। क्योंकि यह इस वक़्त सभी के लिए उपलब्ध भी है लेकिन USB 3.0 का USB 2.0 से DATA transfer rate बहुत अधिक है और इससे आप किसी भी data को copy बहुत तेज़ी के साथ कर सकते है

ऐसा नही है USB का केवल फायदा ही है इसके कई नुक्सान भी है जैसे कि यदि USB CABLE अगर खराब हो जाता है तो इसके repair होने के chances बहुत ही कम होता है या यू कहे कि न के बराबर होता है और आपको नया ही लेना पड़ेगा और दूसरा एक ये भी की कई बार USB का cable बहुत छोटा होता है और यदि आपको long cable चाहिए तो अधिक पैसा खर्चना पड़ सकता है।

तो दोस्तों आपको USB full form in Hindi के उपर यह पोस्ट कैसी लगी हमें comment box में ज़रूर बताएं साथ ही इस post को अपने सभी friends के साथ भी share करे ताकि उनको भी USB के बारे में सही जानकारी मिल सके।

Join Our Telegram Channel

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here