SPG क्या है एसपीजी का Full Form क्या होता है?

SPG Full Form In Hindi – यह सबसे ऊंचे दर्जे की सुरक्षा है। जो केवल देश के प्रधानमंत्री को ही प्रदान की जाती है। लेकिन यदि किसी vvip पर जान का खतरा बना हो या फिर cabinet को लगे कि किसी को यह सुरक्षा प्रदान की जानी चाहिए। तो केवल उसी व्यक्ति को यह खाश सुरक्षा प्रदान की जाती है। इस सुरक्षा को अमेरिका के secret force’s की सुरक्षा के साथ भी मापा जाता है।

क्योंकि की जो भी सुरक्षा कर्मी इस group में शामिल होते है. उनको खाश प्रकार की tanning से गुजरना पड़ता है। जो कि बहुत ही मुश्किल भरा होता है। और बहुत से आवेदक training period को भी नही खत्म नही कर पाते है। आज के समय मे SPG सुरक्षा केवल कुछ लोगो के पास ही मौजूद है। जिसमे से एक हमारे देश के प्रधानमंत्री और दूसरे गाँधी परिवार के सदस्य है, तथा पूर्व प्रधानमंत्री को एक साल तक SPG की सुरक्षा दी जाती है।

गाँधी परिवार को SPG सुरक्षा इस लिए प्रदान की जाती है क्योंकि उनके परिवार के सदस्यों को जान का खतरा है। लेकिन SPG के आला अधिकारियों का कहना है कि अब गांधी परिवार को SPG के सुरक्षा की कोई भी जरूरत नही है। क्योंकि अब उन पर जान का खतरा नही है। लेकिन यह फैसला पूरी समीक्षा के बाद ही लिया जाता है।

तो चलिए अब SPG security group के बारे में सभी चीज़ों को विस्तार से जान लेते है। कि SPG क्या है इसका Full Form क्या होता है और इसका गठन क्यों और कब किया गया था। और यदि किसी को SPG force में शामिल होना है तो क्या करना पड़ता है।

SPG क्या है – Full Form of SPG In Hindi

what is the full form of spg in hindi

SPG का Full Form “Special Protection Group” होता है। इस खाश Protection Group का कार्य देश के प्रधानमंत्री की प्राथमिक सुरक्षा करना होता है। यह दल हमेशा ही देश के प्रधानमंत्री के साथ ही रहता है। चाहे वो कही भी रहे या कही भी जाए, इसका कार्य 24 घंटे उनको सुरक्षित रखना ही होता है। इसके साथ साथ जो भी विदेशी प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति या फिर अन्य जो भी भारत सरकार के ख़ास अतिथि भारत मे आते है उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करना भी इनका ही कार्य होता है।

इस संस्था की पूरी देख रेख का कार्य गृह मंत्रालय के पास होता है। और उन्ही के द्वारा इसको नियंत्रित भी किया जाता है यह खाश सुरक्षा घेरा केवल देश के vvip को ही प्राप्त हो सकता है। वो केवल तब जब कि उनकी जान को खतरा हो। लेकिन इसमें भी खतरे के स्तर को देखा जाता है कि वह कितना है और क्या अन्य force के द्वारा उस खतरे से निपटा जा सकता है।

यदि किसी VVIP के ऊपर खतरा बहुत ही उच्च स्तर का है तो केवल उन्हीं हालात में SPG की सुरक्षा प्रदान की जा सकती है। इसके एक group में केवल SPG के 4 जवान ही शामिल रहते है और अन्य दूसरे दस्तो के जवान शामिल होते है।

SGP Security का कब गठन किया गया था।

SPG का Full Form तो आप जान गए चलिए इसका गठन क्यों किया गया ये जानते है। 1981 से पहले देश के प्रधानमंत्री के सुरक्षा की ज़िम्मेदारी दिल्ली पुलिस के DCP की होती थी। उसके बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा दिल्ली से बाहर कैसे की जाए इसकी काफी चिंता बढ़ गयी थी। क्योंकि उस समय यदि प्रधानमंत्री कही भी जाते थे। तो उनकी सुरक्षा करने वाले कर्मी बदल जाते थे।

ऐसे में 1981 में इंटेलिजेंस ब्यूरो के द्वारा एक खास दिल्ली तथा अन्य क्षेत्रों में सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक विशेष टास्क फोर्स का गठन किया गया। और जब 1984 में इन्द्रगाँधी जी की हत्या कर दी गयी तब समीक्षा करने वाले टीम ने यह तय किया कि प्रधानमंत्री की सभी जगहों की सुरक्षा STF को सौप दी जाए। इसके बाद फरवरी 1985 में गृह मंत्रालय ने बीरबल नाथ समिति की स्थापना की और मार्च 1985 में इस समिति ने एक स्पेशल प्रोटेक्शन यूनिट के गठन करने की सिपरिश की जिसके बाद भारत के राष्ट्रपति ने कैबिनेट के तहत 819 पदों का निर्माण किया।

SPG अगस्त 1985 में अस्तित्व में आ गया था। प्रधानमंत्री की सुरक्षा के सभी प्रावधानों और नियमों को ब्लू बुक में लिखा गया है। और इसमे सभी निर्देशों का उल्लेख भी किया गया है कि कैसे प्रधानमंत्री को निकटतम सुरक्षा दी जानी चाहिए. इसमे अभी तक दो ही संशोधन किये गए है जिसमे से एक 1991 में SPG अधिनियम में यह कहा गया की पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवारों को 10 साल तक सुरक्षा प्रदान की जाएगी। लेकिन इसको 2002 में बदल कर पूर्व प्रधानमंत्री की सुरक्षा की अवधि को कम करके 1 साल का कर दिया गया। और यह खतरे के अनुसार बढ़ाया या घटाया जा सकता है।

SPG Security Force में कैसे शामिल होते है।

यदि आपको एस.पी.जी में शामिल होना है तो ऐसा नही है कि आप direct किसी फॉर्म को भर कर या फिर किसी परीक्षा को क्लियर कर के इसमे शामिल हो सकते है। SPG के कमांडोज़ का चुनाव केवल मौजूदा forces में से ही किया जाता है। लेकिन उसके लिए भी उनको बहुत मेहनत करनी पड़ती है। जवानों को कई प्रकार के परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है। इसमें सबसे पहले उनकी physical strength को देखा जाता है। इसके बाद mantel strength को जांचा जाता है।

अगर आप सभी प्रकार के परीक्षाओं में पास भी हो जाते है तो उसके बाद आपको हाथों से लड़ने की training दी जाती है तथा आपको सबसे आधुनिक हथियारों के बारे में बताया और चलाना सिखाया जाता है। उसके बाद ही आपको एस.पी.जी force में शामिल किया जाता है। ऐसा इस लिए किया जाता है क्योंकि की एस.पी.जी फ़ोर्स को देश के सबसे important इंसान की रक्षा की ज़िम्मेदारी दी जाती है।

आज के समय मे इस force में शामिल होने के लिए सभी जवान एक बार ज़रूर कोशिश करते है। जिनमे से कुछ paramilitary, कुछ BSF कुछ CISF या फिर CRPF के जवान भी शामिल होते है। इस force में शामिल होने से पहले सभी जवानों के background की भी जाँच की जाती है। ताकि उनमें कोई गलत व्यक्ति न शामिल हो सके।

SPG किन लोगों की सुरक्षा करती है।

एसपीजी कमांडोज़ के पास आज के समय के केवल चार लोगों के पास ही सुरक्षा मौजूद है। जिसमे से एक तो देश के प्रधानमंत्री है तथा अन्य कांग्रेस की अध्यक्षता सोनिया गांधी, राहुल गांधी, और प्रियंका रॉबर्ट वाड्रा है। गाँधी परिवार को यह सुरक्षा इस लिए प्राप्त है क्योंकि लगातार 2 बार गाँधी परिवार के सदस्यों को ‘जो कि इन्द्रगाँधी और राजीव गांधी थे’ की हत्या कर दी गयी थी। जिससे कि अन्य परिवार के लोगो पर भी जान से मारने का खतरा बना हुआ था। इस लिए राजीव गांधी जी की हत्या के बाद SPG सुरक्षा में एक अपवाद बनाया गया था। जिसके तहत आज तक गांधी परिवार को सुरक्षा दी जा रहा है।

SPG Force के पास किस प्रकार के हथियार होते है।

एसपीजी कमांडोज़ के पास एक fully automatic FNF 2000 असॉल्ट राइफल होती है और उसके कान में एक रेडियो भी होता है। जिसका उपयोग वो लोग अपने साथियों से बात करने के लिए करते है। इसके साथ साथ उनके पास एक ग्लोक 17 नाम की पिस्टल भी होती है। यह बहुत ही खाश प्रकार की होती है। इसके साथ उनके पास एक 3rd level का बुलेट प्रूफ जैकेट भी पहना होता है। जिससे कि वो खुद की सुरक्षा कर सके।

क्या आपको मालूम है कि इनका बुलेट प्रूफ जैकेट 7.65mm की गोली को आसानी से झेल सकता है। आप ने अक्सर देखा होगा कि SPG कमांडोज़ ने हमेशा एक काले रंग का चश्मा भी पहना होता है। यह कोई आम चश्मा नही होता है। बल्कि बहुत काश तरीके से डिज़ाइन किये गए होते है। जो कि इनकी एकाग्रता को भंग नही होने देते है। इनके पास जो जूते होते है वह भी बेहद खास होते है, जो कि किसी भी तरह के ज़मीन पर फिसलते नही है।

इसके साथ साथ इन्होंने अपने हाथ मे खास प्रकार के दस्ताने भी पहने होते है जो कि चोट लगने से इनके हाथों को बचाते है। अगर मैं एक शब्द में काहू तो उनके पास सबसे आधुनिक हथियार के साथ साथ communication system भी बेहद आधुनिक होता है। और ऊपर से लेकर नीचे तक सभी चीज़े खाश ही होती है।

Tips

दोस्तों इस post के द्वारा आप ने जाना कि SPG Security Force क्या है और इसका कार्य एवं Full Form क्या होता है। तथा क्यो SPG का गठन किया है। एस पी जी हमारे देश की एक special force है जिसका कार्य केवल प्रधानमंत्री की सुरक्षा करना होता है। या फिर जिनकी सुरक्षा में SPG कमांडोज़ की तैनाती की जाती है, उनको सुरक्षा देने होता है। यह forcs हमेशा प्रधानमंत्री के साथ ही रहता है। चाहे वो कही भी जाते है हमेशा उनके साथ रहना व सुरक्षा का ध्यान रखना इनका प्रथम कार्य होता है।

लेकिन ऐसा नही हैं की केवल इस प्रकार की सुरक्षा भारत मे प्रधानमंत्री के पास ही होती है। लगभग सभी देशों के मुख्यमंत्री या राष्ट्रपति के पास जिनके पा अपने देश का नेतृत्व का अधिकार होता है उनके पास होती है। लेकिन उन forces के नाम ज़रूर अलग अलग होते हैं। जैसे की अमेरिका के राष्ट्रपति के लिए secret service force उनकी सुरक्षा में हमेशा तैनात रहती है।

जहाँ भी उनके राष्ट्रपति जाते है उनकी सुरक्षा team हमेशा उनके साथ रहती है। और यदि किसी भी प्रकार का हमला होता है, तो उस force का पहला काम होता है अपने राष्ट्रपति के आस पास सुरक्षा घेरा बनाना और अपने राष्ट्रपति को वहाँ से निकालना। वैसे SPG का काम भी प्रधानमंत्री पर हमले की स्थिति में उनको सुरक्षित वहाँ से निकलना इन्ही का काम होता है।

दोस्तों आप को यह जानकारी कैसी लगी अपनी राय हमे comment के द्वारा ज़रूर दे। और इस post को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ भी share करे ताकि उनको भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो सके और वो अपने ज्ञान को बढ़ा सकें।

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here