RSVP Full Form In Hindi – RSVP Ka Full Form Kya Hota Hai?

RSVP Full Form In Hindi – आज हम RSVP क्या है इसके बारे में जानेंगे। कुछ शब्द ऐसे होते हैं जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं होती। वैसे ही कई लोगों को RSVP के बारे में भी जानकारी नहीं होगी क्योंकि यह यूरोपियन देशों में Use किया जाने वाला एक शब्द है। जिसका संबध किसी आमंत्रण पत्र या समारोह आमंत्रण से होता है। तो हम यहाँ आज RSVP और इसके Full Form के बारे में जानेंगे।

RSVP क्या है? RSVP Full Form In Hindi

rsvp full form

RSVP का पूरा नाम यानि Full Form “Répondez s’il vous Plait” है। यह फ़्रांस भाषा का शब्द है एवं इसका English में मतलब होता है “Please Respond” या “Please Reply”। यह Invitation Card पर छपा होता है जिसमें Invitation भेजने वाला यह जानना चाहता है कि आप उस निमंत्रण पर जाते हैं या नहीं। और आप दिए गए नंबर या पते पर इसकी जानकारी दें ताकि जो व्यवस्थाएँ हैं वह ठीक प्रकार से की जा सके और किसी को कोई तकलीफ न हो।

इससे समारोह आयोजित करने वाले व्यक्ति को व्यवस्था करने में आसानी होती है। क्योंकि उसको पता चल जाता है कि कितने लोग उस समारोह में आयेंगे। पहले RSVP का प्रयोग सिर्फ फ़्रांस में किया जाता था लेकिन अब कई देशों में इसका प्रयोग किया जाने लगा है। जिससे कई प्रकार के फायदे होते हैं।

RSVP किसी Invitation Card के या फिर Letter के बाएँ तरफ एक कोने में लिखा होता है। RSVP के नीचे नाम, पता एवं फ़ोन नंबर लिखा होता है जहाँ आपको आपके उस समारोह में जाने की जानकारी देनी होती है कि आप वहाँ जायेंगे या नहीं।

वैसे अगर देखा जाये तो जिन्हें समारोह में बुलाया जाता है वे RSVP का जवाब नहीं देते। लेकिन यह शिष्टाचार का संकेत है कि अगर आप इसका उत्तर देते हैं तो समारोह आयोजक को बहुत सहायता मिल जाती है व्यवस्था करने में। इसलिए RSVP का जवाब देना चाहिए और उन्हें आपको आमंत्रित करने पर धन्यवाद देना चाहिए। और अगर आप किसी कारण से वहाँ नहीं जा पा रहे हैं तो इसके लिए आपको उनसे माफ़ी माँगना चाहिए।

यह शिष्टाचारी होने का संकेत होता है। RSVP के कुछ नियम भी होते हैं जिनके बारे में जान लेना चाहिए। इसके कई फायदे भी होते हैं।

RSVP के नियम

RSVP के द्वारा कोई व्यक्ति जिसे समारोह आयोजक ने आमंत्रित किया है वह उपस्थित होने की या नहीं होने की सूचना दे सकता है। जिससे समारोह में भली भांति व्यवस्थाएँ हो सकें। लेकिन यहाँ पर समारोह आयोजक को कुछ नियमों का पालन करना होता है जैसे अपना पूरा नाम, पता, फ़ोन नंबर इन सभी की जानकारी देना। जिससे कि आमंत्रित व्यक्ति अपने आने या न आने की सूचना दे सके।

RSVP का इतिहास

RSVP का भी एक इतिहास है जिसे हमें जानना जरुरी है। 18बी शताब्दी में RSVP शब्द का प्रयोग फ़्रांस में किया गया था। और इसके बाद यूरोप में इसका प्रयोग बहुत अधिक होने लगा। इंग्लैंड में भी धीरे-धीरे इसका प्रयोग किया जाने लगा। 20बी शताब्दी में इसका प्रयोग पूरे इंग्लैंड में निमंत्रण पत्रों पर होने लगा।

यह एक फैशन बन गया। जब 20 बी शताब्दी में अंग्रेज भारत आये तो RSVP भी उनके साथ भारत आ गया। और इसके बाद से ही भारतीय संस्कृति में भी RSVP शब्द ने अपनी जगह बना ली। अब भारत में भी बहुत से लोग RSVP शब्द का प्रयोग करने लगे और आज पूरे भारत में यह व्याप्त है।

RSVP के फायदे

RSVP के कई फायदे हैं लेकिन अगर लोग इसके प्रति सचेत रहें तो। जैसे कि हम देखते हैं किसी भी समारोह में कई प्रकार की तैयारियाँ होती हैं जैसे खाना, रूम बुकिंग, ट्रेवल और सबसे अहम् है समय। तो RSVP के द्वारा फायदे होते हैं जैसे:

  • खाना कितना बनना है यह अनुमान लगाना आसान हो जाता है।
  • रूम कितने बुक करवाना है इसका अनुमान लगाना आसान हो जाता है।
  • समय की बहुत बचत होती है।
  • ट्रेवल बुकिंग का भी खर्चा बचेगा और व्यवस्था सही रहेगी।
  • आयोजक को भी ख़ुशी होगी कि इसका पालन किया जा रहा है जिससे उन्हें व्यवस्थाएँ करने में आसानी होगी।

RSVP में लिखा हुआ जरूर पढ़े

कुछ आमंत्रण पत्रों में पूरे परिवार को आमंत्रित किया होता है एवं कुछ में नहीं। तो RSVP में लिखा हुआ अवश्य पढ़े और आपके परिवार में से कितने लोग जा रहे हैं इसकी जानकारी जरूर दें। कई बार 1000 लोगों की व्यवस्था में 1300 लोग पहुँच जाते हैं इससे समारोह आयोजक को बहुत परेशानी होती है। और सारी व्यवस्थाएँ बिगड़ जाती हैं। हर समारोह में लोगों की संख्या निर्धारित होती है। और RSVP के द्वारा संख्या का अनुमान लगाना आसान होता है तो इसका रिप्लाई अवश्य करें जिससे समारोह में किसी प्रकार की अव्यवस्था न फैलाएँ।

RSVP का Reply अवश्य करें

आमंत्रण पत्र पर RSVP का बहुत अहम् मतलब होता है इसलिए इसे देखकर अनदेखा न करें। क्योंकि आपके इस शिष्टाचार से आप अपनी एक जिम्मेदारी भी पूरा करेंगे। RSVP को अनदेखा न करें क्योंकि समारोह आयोजक ने RSVP को एक अहम् मकसद से ही Card पर Print करवाया है। तो इसका Reply जरूर दें।

RSVP के प्रकार

RSVP Card के साथ निमंत्रण

अगर RSVP Card के साथ निमंत्रण भेजा गया है तो आप उस Card को भरकर दी हुई दिनाँक के पहले भेज दें। इससे आमंत्रणकर्ता को पता चल जायेगा कि आप समारोह में जायेंगे या नहीं। इसलिए इसे अपनी जिम्मेदारी समझते हुए Reply जरूर दें।

बिनी किसी प्रतिक्रिया के भेजा गया Invitation

अगर Invitation Card को बिना किसी प्रतिक्रिया के भेजा गया है तो आप यहाँ फ़ोन या फिर Email का प्रयोग करके बता सकते हैं कि आप उस समारोह में जायेंगे या नहीं।

टेलीफोन निमंत्रण

कई बार हमें टेलीफोन पर निमंत्रण आता है तो आप ऊपर आपके उपस्थिति या अनुपस्थिति को बता सकते हैं। अगर आप उस दिनाँक के लिए अभी Confirm नहीं हैं तो आप थोडा समय ले सकते हैं। लेकिन लिए हुए समय में अपनी जानकारी अवश्य दे दें इससे समारोहकर्ता को व्यवस्थाओं में आसानी होगी।

इलेक्ट्रॉनिक Invitation

इस प्रकार का Invitation बहुत अच्छा होता है क्योंकि इससे तुरंत ही समारोहकर्ता को सूचित किया जा सकता है। और इसमें समारोहकर्ता का खर्चा भी कम होता है और थोडा समय देना होता है। जो अन्य Invitation में भी देना होता ही है। और प्राप्तकर्ता को भी उत्तर देने में आसानी होती है।

आज के समय में RSVP भेजने का तरीका

पहले के समय में किसी भी Invitation Card को भेजने के लिए डाक का प्रयोग किया जाता था जिसमें कम से कम 7 से 10 दिनों का समय लग जाता था लेकिन आज के समय में कई इलेक्ट्रॉनिक तरीके आ गए हैं जिससे RSVP और Invitation Card भेजने में आसानी हो गई है और समय भी कम लगता है।

इसके साथ ही मोबाइल ने भी बहुत सी चीज़ों को आसान कर दिया है अगर आपको मेल का Reply करना है तो आप कुछ ही मिनिट में RSVP का रिप्लाई कर सकते हैं। यह आसान भी है और इसमें समय भी कम लगता है। इसके लिए आपको पोस्ट ऑफिस जाने की जरुरत नहीं है न ही आपको इसके लिए 7 से 10 दिनों का इंतज़ार करना पड़ेगा। और चैट के द्वारा भी आप RSVP का Reply दे सकते हैं। इसमें सिर्फ निवेदन भेजने वाले को पैसा देना होता है और किसी को इसके पैसे नहीं देने होते।

RSVP कहाँ से भेजा जा सकता है?

आजकल बहुत ही सारी वेबसाइट हैं जिनके द्वारा RSVP को भेजा जा सकता है। जैसे RSVPify, Weddingwire, Theknot, RSVPmenow इत्यादि। इन सभी वेबसाइट के द्वारा RSVP को भेजना संभव है। तो आज के समय में यह बहुत आसान हो गया है इसमें निवेदन भेजने वाले के कुछ पैसे लगते हैं। प्राप्त करने वाले को इसके लिए कोई पैसे नहीं देने होते।

RSVP का कुछ समय पहले कम प्रयोग होने लगा था

ज्यादा समय लगने और पैसे खर्च होने के कारण RSVP का चलन कुछ समय पहले कम हो गया था। क्योंकि उस समय लोगों के पास फ़ोन नहीं होते थे तो इसके लिए पोस्ट ऑफिस का प्रयोग करना होता था। और इसी कारण लोग इसका रिप्लाई नहीं करते थे और बाद में RSVP को Regeret Only कर दिया गया था। लेकिन अब ऐसा नहीं है कई वेबसाइट, मोबाइल और इन्टरनेट ने RSVP को आसान कर दिया और यह फिर से चलन में आ गया है।

RSVP का प्रयोग कहाँ-कहाँ किया जा सकता है?

RSVP का प्रयोग कई जगह किया जा सकता है जहाँ कोई समारोह हो जैसे शादी, जन्मदिन की पार्टी, सगाई की पार्टी या कोई भी ऐसी पार्टी या समारोह जहाँ आपको 50 से ज्यादा लोगों को सम्हालना हो और उनके लिए व्यवस्थाएँ करनी हों।

ऐसी जगह पर RSVP का प्रयोग किया जाना चाहिए और बहुत से लोग करते भी हैं। यह एक सही तरीका का है जिसमें यह जाना जा सकता है कि कितनी संख्या में लोग समारोह में आयेंगे और कितनी लोग नहीं आयेंगे।

RSVP का उद्देश्य

RSVP का सीधा सा उद्देश्य यही है कि जिसको निमंत्रण भेजा गया है वह समारोह में आमंत्रित होगा या नहीं इसका उत्तर दे। इससे कई प्रकार की व्यवस्था करने में आसानी होती है। वैसे कई लोग इस उद्देश्य को पूरा नहीं होने देते और RSVP की तरफ ध्यान ही नहीं देते। लेकिन इसका उत्तर देना चाहिए और RSVP का उद्देश्य पूरा करना चाहिए। यह बहुत ही जरुरी है।

इससे समारोह में कितने लोग आयेंगे उसका अनुमान लगाने में भी सहायता मिलती है जिससे समारोह आयोजक को बहुत बड़ी सहायता मिलती है।

RSVP के नुकसान

वैसे देखा जाये तो RSVP कोई नुकसान नहीं है बल्कि फायदा ही है लेकिन यह फायदा तब होता है जब लोग इसका उत्तर दें। अगर लोग इसे देखें और समझे ही नहीं तो इसका कोई मतलब नहीं रह जाता। RSVP में निवेदक का पैसा भी खर्च होता है तो लोगों को इस पर ध्यान देना चाहिए। और इसके नुकसान नहीं है। इसलिए इसका प्रयोग करना चाहिए।

भारत में कितने लोग इसके बारे में जानते हैं

वैसे तो अंग्रेजों के साथ RSVP भी भारत में 20बी शताब्दी में ही आ गया था लेकिन फिर भी बहुत से लोगों को भारत में इसके बारे में नहीं पता। भारत में अब तो फिर भी 30 से 40 प्रतिशत लोगों को RSVP का मतलब पता है लेकिन इसके बाद भी कई ऐसे लोग हैं जिनको इसका मतलब नहीं पता। लेकिन उसके बाद भी RSVP को Invitation Card पर Print करवाया जाता है।

इसी प्रकार से कई शब्द हैं जिनका एक अलग मतलब और उद्देश्य होता है वो हम प्रयोग तो करते हैं लेकिन कई बार हमें नहीं पता होता कि उसका मतलब क्या है। इसलिए कुछ अच्छे शब्दों को सभी को सीखना चाहिए जैसे RSVP। इस शब्द से कितना फायदा है ये तो अपने देखा ही और इससे आप अपना एक कर्त्तव्य भी पूरा करते हैं। तो अगर किसी चीज़ पर कोई शब्द लिखा है तो उसे एक बार जरूर ध्यान से देखें और उसके बारे में जाने। उदहारण के लिए आप RSVP को ले सकते हैं।

अगर किसी Card पर RSVP Print किया गया है तो इसका कुछ न कुछ उद्देश्य लेकिन हम इसे नहीं देखते और नज़रअंदाज कर देते हैं हमें ऐसा नहीं करना चाहिए और ध्यान देना चाहिए। वैसे RSVP के कई अन्य Full Form भी हैं लेकिन RSVP का अधिकतर मतलब Reply Please से ही लिया जाता है।

देखा जाये तो अंग्रेजों ने कई अच्छे शब्दों को भी भारतीय संस्कृति को दिया है। जो सीधे शिष्टाचार से सम्बंधित है। RSVP भी उन्ही शब्दों में से एक है जिसे सभ्य शब्दों में से एक माना गया है। और यह आज के समय में बहुत उपयोग किया जाने वाला शब्द है। जिसे भारतियों ने भी उच्च स्तर पर उपयोग करना प्रारंभ कर दिया है।

भारत में भी आज के समय में RSVP का उपयोग होने लगा है और लोगों ने आमंत्रण पत्र पर इस शब्द को Print करवाना शुरू कर दिया है और इसके फायदों से लोग अवगत होने लगे हैं। RSVP ने वाकई समरोह आयोजकों की बहुत सहायता की है जिसे नाकारा नहीं जा सकता।

Tips

यूरोपियन देशों में RSVP को बहुत महत्व दिया जाता है एवं सबसे अधिक RSVP का प्रचलन वहीं हैं। भारत में भी धीरे-धीरे RSVP का प्रचलन बड़ता जा रहा है क्योंकि लोगों को इसका महत्व समझ आने लगा है। हमे उम्मीद है अब आपको भी RSVP Ka Full Form (RSVP Full Form In Hindi) और इसका महत्व समझ मे आ गया होगा।

अगर ये जानकारी आपको पसंद आई है तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना नया भूले। Thanks For Reading.

Read More

Mr. Samir HFT के Co-Author & Founder है इन्हे हमेशा से नयी चीजे सिखना और उसे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. अगर आपको इनके द्वारा शेयर की गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप इन्हे Social Media पर फॉलो कर सकते है। Thank You!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here