OPD Full Form In Hindi – ओपीडी फुल फॉर्म क्या होता है?

OPD Full Form In Hindi – जैसा कि हम जानते ही हैं कि अस्पताल का निर्माण क्यों किया गया था। अस्पताल में कई रोगों के मरीजों का इलाज करके उन्हें ठीक किया जा सके एवं उन्हें स्वस्थ किया जा सके । इसलिए चिकित्सालय बनाये गए हैं और बनाये जा रहे हैं। अस्पताल में कई विभाग होते हैं।

जैसे: बहिरंग विभाग एवं अंतरंग विभाग जिनके अंतर्गत अन्य विभाग आते हैं और रोगियों का उनके अनुसार इलाज किया जाता है। बहिरंग विभाग को ही OPD के नाम से जाना जाता है। और हम यहाँ OPD के बारे में ही जानेंगे। हम लोगों ने अस्पताल में OPD शब्द सुना है।

क्योंकि OPD का सीधा सम्बन्ध मेडिकल और रोगियों से होता है। वैसे तो अस्पताल में कई कक्ष होते है जो अलग-अलग कार्य के लिए होते हैं वैसे ही एक कक्षा होता है OPD का। आज हम OPD क्या है इसका Full Form क्या होता है इसके बारे में आज हम पूर्ण रूप से जानेंगे।

OPD क्या होता है? OPD का Full Form क्या होता है?

what is the full form of opd in hindi

OPD का पूरा नाम यानि Full Form “Out Patient Department” होता है। हिंदी में इसे “बाह्य रोगी विभाग” के नाम से जाना जाता है। यह अस्पताल का वह भाग या कक्ष होता है। जब कोई भी मरीज अस्पताल में जाता है तो सबसे पहले उसे OPD में जाना होता है वहाँ बैठा हुआ कर्मचारी यह तय करता है कि मरीज को किस कक्ष में इलाज या सेवाओं के लिए भेजना है।

OPD अधिकतर अस्पताल के Ground Floor पर ही पाया जाता है। साथ ही इसके कई भाग होते हैं जैसे Gynecology, Neurology, Orthopedics या General Patient इत्यादि। अगर मरीज की हालत बहुत ही अधिक ख़राब होती है तो उसे ICU या फिर NICU में भर्ती किया जाता है।

जब एक मरीज इलाज के लिए जाता है उससे पहले अस्पताल की सारी ओप्चारिक्ताएं OPD पर ही पूरी करना अनिवार्य होता है। OPD को Outpatient Clinic भी कहा जाता है। यहाँ उन रोगियों की देखभाल की जाती है जिन्हें रात भर अस्पताल में रहना अनिवार्य नहीं होता। OPD अस्पताल का एक अहम् हिस्सा होता है।

OPD के अन्दर कई रोगियों की जाँच करके उन्हें उपचार दिया जाता है। Discharge के लिए भी उन्हें OPD में उपस्थित होना पड़ता है। XRAY, Laboratories, Pharmacy एवं Record Office ये अधिकतर OPD के पास में ही बनाये जाते हैं।

OPD की Services

OPD का Full Form तो आप जान ही गए लेकिन OPD में कई प्रकार की Facility भी दी जाती हैं यह अस्पताल का एक अहम् हिस्सा है।

Consultation Chambers

यह OPD का ही एक विभाग होता है जिसमें मरीजों को कई प्रकार की राय दी जाती हैं यह राय आहार विज्ञान, सर्जिकल, चिकित्सक एवं विशेषज्ञों के द्वारा दी जाती हैं।

Examination Rooms

OPD के इस विभाग में मरीजों की जाँच की जाती है और मरीजों की बीमारी का पता लगाया जाता है और उन्हें उसके बारे में बताया जाता है।

Diagnostics

OPD के इस डिपार्टमेंट में Microbiology, Pathology, Radiology एवं Clinical Services के सभी सम्प्लेस को एकत्रित किया जाता है।

Pharmacy

OPD के इस विभाग में रोगियों को उनके रोग को ठीक करने के लिए दवाइयाँ दी जाती है। यह OPD का अहम् हिस्सा है।

OPD के विभाग

OPD के कई सारे विभाग होते हैं जैसे:

  • Neurosurgery
  • Cardio Thoracic Surgery
  • General & Laparoscopy Surgery
  • Orthopedics & Joint Replacement Surgery
  • Nephrology & Renal Transplant Surgery
  • Gastroenterology & Hepatology Internal Medicine

Neurosurgery क्या है?

Neurosurgery वह होता है जो तंत्रिका तंत्र जैसे मष्तिष्क एवं रीढ़ की हड्डी से सम्बंधित बिमारियों का इलाज करके इन्हें दूर करता है। एक न्यूरोसर्जन कई रोगों के निदान के लिए प्रशिक्षित होता है जैसे मेरुरज्जु, रीढ़ की हड्डी, मस्तिष्क, तंत्रिकाओं, इंट्रास्पाइनल वैस्क्युलेचर एवं इंट्राक्रैनियल इत्यादि। यह विभाग OPD का अहम् इस्सा होता है।

Cardio Thoracic Surgery क्या है?

Cardio Thoracic Surgery भी OPD का अहम् भाग होता है। Cardio Thoracic Surgery में मरीज की छाती में चीरा लगाकर इंटरनल थोरेसिक आर्टरी जो एक धमनी होती है की सर्जरी की जाती है। इसे ही ओपन सर्जरी या कॉर्डियक सर्जरी कहा जाता है। यह दो प्रकार की होती है या दो अवस्थाओं में की जाती है एक जब हृदय की नसें ब्लॉक हों या फिर जब हृदय के वॉल्व में समस्या हो।

General & Laparoscopy Surgery क्या है?

General & Laparoscopy Surgery के लिए OPD में एक अलग विभाग होता है। यह एक इनवेसिव विधि होती है। जिसका प्रयोग अल्सर, जख्म या घाव, रसौली या फिर बांझपन की समस्या के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें महिला के पेट दो से तीन छोटे कट लगाये जाते हैं और कैमरा और प्रकाश की मदद से इलाज किया जाता है। इसके लिए डॉक्टर आवश्यकता के अनुसार चीरे को बड़ा भी कर सकते है।

Orthopedics & Joint Replacement Surgery क्या है?

Orthopedics & Joint Replacement Surgery के दौरान हड्डियों को और जोड़ों के प्रतिस्थापन का कार्य किया जाता है। जोड़ों में दर्द, घटने में दर्द होने के कारण व्यक्ति को चलने में, खड़े होने में परेशानी होती है और कई बार घुटने पूर्ण रूप से ख़राब हो जाते हैं इस स्थिति में Joint मतलब जोड़ों का Replacement जरुरी हो जाता है। यह OPD का एक अहम् विभाग है।

Nephrology & Renal Transplant Surgery क्या है?

Nephrology & Renal Transplant Surgery में गुर्दे की सर्जरी की जाती है। गुर्दे शरीर का एक अहम् हिस्सा होते हैं यह जोड़ी में पाए जाते हैं अगर दो में से एक गुर्दा निकल जाये तो व्यक्ति जीवित रह सकता है। लेकिन अगर दोनों गुर्दे  ख़राब हो जाये या शरीर से बाहर निकाल दिए जाये तो व्यक्ति जीवित नहीं बचता। गुर्दे का Transplant सर्जरी के द्वारा किया जाता। यह भी OPD का अहम् सिभाग होता है।

Gastroenterology & Hepatology Internal Medicine क्या है?

Gastroenterology कको हिंदी में जठरांत्र रोग विज्ञान कहा जाता है। यह पाचन तंत्र रोगों से सम्बंधित है। यह भी OPD का अहम् हिस्सा होता है। OPD में Gastroenterology & Hepatology Internal Medicine से सम्बंधित एक विभाग भी होता है।

OPD के फायदे

  • वैसे तो OPD अधिकतर अस्पताल में मिल जाता है लेकिन कुछ अस्पताल में हो सकता है OPD न हो। लेकिन बड़े-बड़े और सरकारी अस्पतालों में आपको OPD जरूर मिलेगा। OPD से मरीज को काफी सुविधाएँ मिल जाती हैं।
  • OPD वैसे तो Ground Floor पर ही बनाया जाता है और मरीज को सबसे पहले यहीं जाना होता है जहाँ से मरीज को इलाज के लिए किस विभाग में भेजना है यह तय हो जाता है।
  • मरीज के लिए व्हील चेयर एवं रैंप की व्यवस्था की जाती है।
  • OPD के विभागों में डॉक्टर के कक्ष होते हैं जहाँ मरीज परामर्श लेते हैं।
  • OPD के काउंटर पर ही मरीज का रजिस्ट्रेशन किया जाता है। और फिर मरीज का नंबर रजिस्ट्रेशन नंबर के अनुसार आता है इसके बाद मरीज डॉक्टर से परामर्श ले सकता है।

OPD के कार्य

OPD का मुख्य कार्य उन मरीजों की देखभाल करना और उन मरीजों के रोगों का निदान करना होता है जिन्हें रात भर अस्पताल में रुकने की आवश्यकता नहीं होती। यह मुख्यतः रोगियों की सेवाओं के लिए ही है। इसमें रोगियों की जाँच की जाती है और उनका भर्ती होने से पहले उपचार किया जाता है।

बच्चों की OPD क्या होती है?

बच्चों की OPD हर अस्पताल में अलग होती है। यहाँ पर बच्चों का रजिस्ट्रेशन और उनका इलाज किया जाता है। बाल OPD में बच्चों को डॉक्टर को दिखाने के लिए एक अलग दरवाजा होता है जहाँ बच्चों के डॉक्टर उपलब्ध होते हैं।

क्या OPD इंश्योरेंस जरुरी है?

अभी हाल ही में जो इंश्योरेंस प्लान है वे काफी हद तक व्यक्ति के फायदे के लिए हैं। अगर इलाज के लिए व्यक्ति इंश्योरेंस करवा ले तो उन्हें अच्छा इलाज मिल सकता है। OPD इंश्योरेंस जरुरी है या नहीं ये तो व्यक्ति ही समझ सकता है। लेकिन अगर आप OPD इंश्योरेंस करवाते हैं तो आपको इसके कई फायदे मिलेंगे। हर इंश्योरेंस कंपनी द्वारा दिए जाने वाले फायदे अलग-अलग होते हैं।

OPD के अन्य Full Form

मेडिकल के साथ-साथ ही OPD के कई और भी फुल फॉर्म हैं। जैसे:

  • OPD=Overfill Prevention Device
  • OPD=Order Processing Department
  • OPD=Over Pressure Device
  • OPD=Organizational Process Definition

लेकिन जब भी OPD की बात आती है तो लोग इसे मेडिकल टर्म में ही समझते हैं। मेडिकल में OPD को Ambulatory Care Services भी कहा जाता है।

Indoor Patient का अर्थ क्या है?

अगर डॉक्टर के अनुसार किसी भी मरीज को कोई गंभीर बीमारी हुई है और मरीज का इलाज उसी अस्पताल में चल रहा है और मरीज के ठीक होने की उम्मीद है तो डॉक्टर मरीज कको भर्ती करने की सलाह देते हैं। ऐसे मरीजों को Indoor Patient कहा जाता है।

Out Patient का अर्थ क्या है?

ऐसे मरीज जिन्हें अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया है या उस व्यक्ति को बिना भर्ती किये ही ठीक किया जाना संभव है। इसमें मेडिसिन, स्किन इत्यादि आते हैं। या फिर जो व्यक्ति इलाज में ज्यादा खर्च नहीं कर सकते वे OPD में इलाज करवाते हैं। OPD के डॉक्टर द्वारा इसका कोई भी चार्ज नहीं लिया जाता। OPD से आने वाला पैसा अच्छे कामों जैसे हॉस्पिटल में ही लगाया जाता है।

OPD के फायदे

OPD से मरीज को कई फायदे होते हैं कि उनका इलाज तुरंत और आसानी से हो जाता है। कई बार इलाज मुफ्त भी हो जाता है। रजिस्ट्रेशन नंबर होने के कारण एक के बाद एक मरीज को परामर्श दिया जाता है। और मरीजों को भर्ती नहीं किया जाता जब बहुत ज्यादा ही गंभीर मरीज होता है उसे ही बाद में भर्ती होने की सलाह दी जाती है। सरकारी अस्पताल और सभी बड़े अस्पताल में इसकी व्यव्वस्था होती है। जिससे मरीजों को ज्यादा तकलीफ न उठानी पड़े और ग्राउंड फ्लोर पर ही OPD की व्यवस्था उपलब्ध की जाती है।

ऑनलाइन OPD अपॉइंटमेंट

अब Digital India के साथ ही कई अस्पतालों में ऑनलाइन OPD अपॉइंटमेंट की भी व्यवस्था होने लगी है। जहाँ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराकर सीधा अपॉइंटमेंट लिया जा सकता है। और चिकित्सक को दिखाया जा सकता है। इसके लिए आपको लम्बी लाइन में लगने की जरुरत नहीं होगी। AIIMS में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था उपलब्ध है।

OPD क्यों जरुरी है

जैसा कि हमने देखा कि OPD का प्रयोग क्यों किया जाता है तो अब ये भी समझ आ ही गया होगा कि OPD क्यों जरुरी है। OPD इसलिए जरुरी है जहाँ लोगों को सही तरह से इलाज मुहैया हो पाए एवं लोग अस्त व्यस्त न हों। OPD के द्वारा मरीज का रजिस्ट्रेशन किया जाता है और जब रजिस्ट्रेशन में दिया गया नंबर आता है उस समय मरीज डॉक्टर से परामर्श ले सकता है और तुरंत ही इलाज करवा सकता है। इससे जल्दी ही मरीज का इलाज करवाना संभव है।

OPD के द्वारा जल्द इलाज करवाना संभव हो गया है। इसलिए OPD को प्रत्येक अस्पताल में अनिवार्य हो गया है। जिससे मरीजों को आसानी हो।

OPD के साथ-साथ कई और भी विभाग अस्पताल में होते हैं लेकिन उन तक जाने के लिए भी OPD से होकर गुजरना पड़ता है। अस्पताल मरीजों के लिए बहुत ही आवश्यक हैं। अभी हम देख रहे हैं कि पूरे विश्व में Corona Virus ने अपने पैर पसार रखें हैं। और अस्पतालों की वजह से ही कई मरीज इस भयानक महामारी से उभर पा रहे हैं क्योंकि अस्पतालों में मरीजों पर पूर्ण रूप से ध्यान दिया जाता है।

अगर अस्पताल नहीं होते तो क्या होता?

अगर अस्पताल नहीं होते तो आज के समय में मरीजों को कई कठिनाइयों से गुजरना पड़ता। आज के समय की सबसे बड़ी जरुरत अस्पताल है। क्योंकि आज के समय में कई ऐसी बीमारियाँ पनप रही हैं जिन्हें घरेलु इलाज से ठीक किया जाना असंभव है।

इनके लिए देखरेख की बहुत जरुरत होती है। और अस्पताल एक ऐसी जगह है जहाँ मरीजों की पूर्ण रूप से देखभाल होती है और मरीज को ठीक किया जाना संभव होता है। मान लीजिये अगर अस्पताल न हों तो विश्व में हाहाकार मच जायेगा और बीमारियाँ कई गुना बड जाएँगी और हो सकता है ऐसी हालत भी हो जाये की विश्व नष्ट होने की कगार पर आ जाये।

इसलिए अस्पताल होना बहुत ही अधिक जरुरी है। अस्पताल होंना ही काफी नहीं हैं यहाँ पूरी व्यवस्थाएं होना भी जरुरी हैं जैसे दवाएं, डॉक्टर, चिकित्सा के लिए उपकरण इत्यादि। इन सभी का मैनेजमेंट अस्पतालों में किया जाता है। इसलिए अस्पताल मे OPD होना बहुत आवश्यक हैं जिनसे मरीजों को कई बिमारियों से निजात दिलाया जा सके।

Tips

हमे उम्मीद है आपको OPD क्या है इसका Full Form क्या होता है (Full Form Of OPD) इन सभी के बारे मे जानकारी प्राप्त हो गई होगी अगर आपको ये जानकारी पसंद आई है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले!

Read More

Mr. Samir HFT के Co-Author & Founder है इन्हे हमेशा से नयी चीजे सिखना और उसे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. अगर आपको इनके द्वारा शेयर की गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप इन्हे Social Media पर फॉलो कर सकते है। Thank You!

2 COMMENTS

  1. Hame aap ka diya huay ansavar shay nahi lagata hay ise thek karana hoga varana kabhi bhi nahi khaole ge Google shamaj gay na thek hay na ok sabaka ansa bata dena

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here