Fastag क्या है फासटैग अनलाइन कैसे खरीदे? – What is FasTag In Hindi

FasTag के लिए Toll Plaza पर एक अलग से लेन मिलेगी जहा से FasTage लगे हुए कार सीधे निकल जाएगी, उन्हे रुकना नहीं पड़ेगा।

What is FasTag In Hindi – टोल प्लाजाओं पर टोल टेक्स देने के समय होने वाली परेशानियां आपकी गाड़ी के विंड स्क्रीन में लगे फास्टैग सिस्टम से दूर हो जाएंगी। FasTag की हेल्प से आप बिना रुके ही टोल बूथ पर अपना टोल टेक्स पे कर सकेंगें बस आपको अपने व्हीकल पर फास्टैग लगवाना होगा। FasTag एक कंप्यूटर बेस्ड टोल कलेक्शन सिस्टम है। FasTag एक ऐसा इंस्ट्रूमेंट है जिसमें रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन ( आर.एफ.आई.डी.) लगा होता है।

जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके व्हीकल के विंड स्क्रीन में लगे FasTag को स्कैन कर लेता है और आपके FasTag अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाले टेक्स को डिडक्ट करके गेट खोल देता है और आप बिना रुके ही अपना टोल टेक्स पे कर के चलते जाते हैं।

FasTag क्या है?

2014 में FasTag सिस्टम ट्रायल के लिए सबसे पहले अहमदाबाद और मुंबई हाईवे के बीच स्टार्ट हुआ था। इस सिस्टम की सक्सेस और बेनेफिट्स को देखकर 2015  में यह चेन्नई और बेंगलुरु के टोल प्लाजाओं पर भी स्टार्ट किया गया । अभी तक 537 टोल प्लाजाओं पर FasTag की फैसिलिटी स्टार्ट हो चुकी है।

फासटैग के फायदे – FasTag Benefits In Hindi

  • FasTag की हेल्प से आप अपना काफी टाइम सेव कर सकते हैं।
  • इससे आपके पेट्रोल या डीजल की भी बचत होगी।
  • इससे पॉल्यूशन भी कम होगा ।
  • टेक्स का डिजिटल कलेक्शन होने से खुल्ले पैसों की प्रॉब्लम भी दूर होगी।
  • टोल बूथ पर होने वाली गुंडागर्दी और बेइमानी भी दूर होगी।
  • इससे टोल वर्कर्स भी सेफ रहेंगें।
  • साथ ही टोल प्लाजा पर रिसिप्ट के रूप में पेपर का यूज़ भी कम हो जायेगा।
  • देश का सिस्टम डिजिटल वर्ल्ड की तरफ एक कदम और आगे बढ़ेगा।

FasTag की जरूरत क्यों है?

फासटैग क्या है - what is fastag in hindi 2020

टोल प्लाजाओं पर कैश टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली प्रॉब्लम्स को दूर करने के लिए “नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया” ने “इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन” ( E.T.C. ) या FasTag सिस्टम स्टार्ट किया है। केंद्र सरकार ने 1 दिसंबर 2019 से नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर आने वाले सभी व्हीकल्स पर FasTag लगाना कम्पलसरी कर दिया है। नेशनल हाईवे की टोल बूथों पर लोगों की लम्बी लाइनों, जाम और पोल्युशन से बचने के लिए सरकार ने इस नियम को लागू किया है।

FasTag Rules in Hindi

  • सेंट्रल गवर्मेंट ने FasTag को देश के कई टोल प्लाजाओं पर मेनडेटरी कर दिया है और FasTag न होने पर डबल टोल टैक्स की पेनेल्टी भी लगादी है।
  • सेंट्रल रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवे मिनिस्टर नितिन गडकरी के अनुसार आने वाले टाइम में जल्दी ही FasTag पेट्रोल पम्पों पर भी मिलने लगेंगें और आप इसका उपयोग पेट्रोल खरीदने और पार्किंग टैक्स पे करने में भी कर सकेंगें। 1 दिसंबर 2019 से FasTag नहीं लगा होने पर डबल टोल टेक्स पे करना होगा । जबकि बिना FasTag लगे व्हीकल्स के लिए टोल प्लाजाओं पर एक अलग लेन होगी।
  • एन एच ए आई के अनुसार ओवरलोडिड व्हीकल्स के लिए टोल प्लाजा पर एक्स्ट्रा चार्जिस लगेंगे और वह चार्जिस FasTag अकाउंट के जरिये ही डिडक्ट हो जाएंगे। एन एच ए आई के रूल्स के अनुसार किसी भी कमर्शियल व्हीकल पर 20 % ओवरलोड होने पर व्हीकल के मालिक से दोगुना, 20 से 40 % ओवरलोड होने पर चार गुना, 40 से 60 % ओवरलोड होने पर छह गुना, 60 से 80 % ओवरलोड होने पर आठ गुना और 80 से 100 % ओवरलोड होने पर दस गुना तक जुर्माना लिया जाएगा।
  • कमर्शियल व्हीकल्स ट्रक आदि के वजन के लिए टोल प्लाजा पर वजन तोलने वाली हाई टेक मशीने लगायी जा रही हैं जो कमर्शियल व्हीकल्स का वजन काउंट कर, टोल अमाउंट को ऑटोमैटिक ही काट लेंगे।

टैक्स फ्री टोल

नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ने यह रूल बताया है कि अगर आर एफ आई डी स्कैनर ख़राब है या सही FasTag को वह स्कैन नहीं कर पा रहा है तो व्हीकल ऑनर को कोई पैसे नहीं देने होंगे और वह फ्री में टोल प्लाजा को पास कर सकता है। टोल प्लाजा के ऑफिसर्स मैन्युअल तरीके से जीरो फीस कि रसीद दे देंगे और गाड़ी का रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा।

FasTag Details in Hindi

  • सबसे पहले तो FasTag के लिए आपको प्लास्टिक कवरिंग उतारकर इसे व्हीकल के विंड स्क्रीन पर लगाना होगा।
  • नए ओनर्स को चिंता करने की जरुरत नहीं है, गाड़ी के रजिस्ट्रेशन के समय FasTag दिया जाएगा।
  • जिनके पास पुरानी गाड़ी है वह FasTag किसी भी नेशनल बैंक से खरीद सकते है जो एलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह ( एन ई टी सी ) प्रोग्राम से लिंक्ड है।
  • आप FasTag किसी भी ऑफिशल टैग इशुअर जैसे पे टी एम, अमेज़न आदि से भी खरीद सकते हैं। पहली बार इस्तेमाल कर रहे यूजर्स को इसे अपने ऑनलाइन वॉलेट से लिंक करना होगा।
  • इसके लिए उन्हें उस बैंक के वेबसाइट पर जाना होगा जिससे FasTag खरीदा गया है। उसके बाद दिए गए स्टेप को फॉलो करने के बाद इसे यूज़ किया जा सकता है।
  • इस वॉलेट को ऑनलाइन रिचार्ज किया जा सकता है। FasTag अकाउंट से हर बार पैसे कटने के बाद इसका एक एस.एम.एस. अलर्ट भी आएगा।

FasTag का कलर कैसा होगा?

अथॉरिटीज ने अलग-अलग व्हीकल्स के लिए अलग-अलग रंग के FasTag तय किये हैं।

  • कार, जीप वैन के लिए नील रंग,
  • हलके कमर्शियल व्हीकल्स के लिए लाल व पीला रंग,
  • बस के लिए हरा व पीला rang
  • मिनी बस के लिए ऑरेंज रंग का FasTag तय किया गया है

ट्रकों की कैपेसिटी के अनुसार उनके FasTag का रंग तय किया गया है।

  • 12 से 16 हजार किलोवजन वाले ट्रक को हरा रंग
  • 14200 से 25000 किलो के ट्रक को पीला रंग
  • 25000 से 54000  किलो के ट्रक को पिंक रंग
  • और 542000 किलो से अधिक वजन के ट्रक को हल्का नीला रंग दिया गया है
  • जेसीबी मशीन व अन्य कंस्ट्रक्शन के कार्य मैं उसे होने वाली मशीनों के लिए ग्रे रंग का फ़ास्ट टैग तय किया गया है।

FasTag अकाउंट

  • यह एक प्रीपेड अकाउंट है जैसे ही इसमें पैसे डाले जाएंगें यह चालू हो जाएगा और पैसे ख़त्म होने पर इसे रिचार्ज करना होगा।
  • FasTag की वैलिडिटी खरीदने के बाद 5 साल तक की है। इस टाइम तक आपको बस इसे रिचार्ज कराते रहना है।
  • हर 5 साल में यह एक्सपायर हो जाएगा। सबको हर 5 साल बाद अपनी गाड़ी का FasTag चेंज करना होगा।
  • जिस को आप अपने क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, आरटीजीएस और नेट बैंकिंग किसी भी तरह से  रिचार्ज कर सकते हैं।
  • FasTag अकाउंट में मिनिमम अमाउंट 100 रुपए और मैक्सिमम अमाउंट 1 लाख रुपए तक का रिचार्ज करवाया जा सकता है।
  • आप किसी भी पॉइंट ऑफ सेल (POS) के अंदर आने वाले टोल प्लाजा और एजेंसी में जाकर अपना FasTag स्टीकर और FasTag अकाउंट खुलवा सकते हैं।
  • आप नेशनल हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइड में जाकर अपने आस-पास के एरिया में पॉइंट ऑफ सेल की जगह का पता लगा सकते हैं।

फासटैग कैसे खरीदे – How To Buy FasTag In Hindi

FasTag किसी भी पॉइंट ऑफ़ सेल (पी.ओ.सी.) लोकेशन पर जाकर ऑफलाइन या ऑनलाइन मेथड से ख़रीदा जा सकता है।राष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट में जाकर आप अपने आसपास के प्वाइंट ऑफ सेल की जगह का पता कर सकते है। ऑफलाइन मेथड में आपको बैंक की लम्बी कतारों में खड़े होकर FasTag खरीदना होगा। जबकि ऑनलाइन मेथड से FasTag खरीदने का प्रोसीजर और भी इजी हो जाएगा। सभी बैंक्स का प्रोसीजर अलग-अलग  होता है पर सबके  चीफ पॉइंट्स सेम है।

Fastag अनलाइन कैसे खरीदे?

  • ऑनलाइन मोड से FasTag प्रीपेड अकाउंट खोलने के लिए किसी भी बैंक ( जिसमें आपका अकाउंट हो) की FasTag ऑनलाइन एप्लिकेशन वेबसाइट पर जाएं और एप्लिकेशन फॉर्म डाउनलोड करें
  • अपनी सारी डिटेल जैसे नाम, एड्रेस, फ़ोन नंबर, आदि उसमें भरें।
  • केवाईसी डाक्यूमेंट्स रजिस्टर करें।
  • अपने व्हीकल का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट ( आर सी ) नंबर रजिस्टर करें।
  • अपने सभी डाक्यूमेंट्स ( के.वाई.सी. डाक्यूमेंट्स, व्हीकल ओनर की एक पासपोर्ट साइज फोटो और आर.सी. डाक्यूमेंट्स) स्कैन करके अपलोड करें।

फॉर्म सबमिट करने के बाद FasTag अकाउंट बन जायगा और इसे ऑनलाइन या FasTag ऐप से एक्सेस कर सकते हैं। ऑनलाइन FasTag खरीदने पर जल्द ही आप के दिए हुए पते पर आ जायेगा।

एस.एम.एस. एलर्ट

जब कोई गाड़ी टोल प्लाजा से पास करती है तो FasTag अकाउंट की ट्रांजेक्शन का एस एम एस एलर्ट और ईमेल एलर्ट आपके रजिस्टर्ड फ़ोन नंबर और ई-मेल पर आ जाएगा। एस एम एस और ई-मेल  से आपको  FasTag अकाउंट से डिडक्ट अमाउंट के बारे में पता लग जायेगा। अभी तो सरकार FasTag यूज़र्स को 2.5 फीसदी का कैशबैक भी दे रही है।

फासटैग का खर्च – Charges of FasTag In Hindi

गवर्मेंट ने ज्यादा से ज्यादा व्हीकल्स में FasTag फ्री में लगवाने के लिए 22 नवंबर 2019 से 1 दिसंबर 2019  तक का टाइम दिया था। इसके लिए बैंको को भी इंस्ट्रक्शन दिए गए थे। इस ऑफर के ख़त्म हो जाने के बाद आपको FasTag लगवाने के लिए कुछ अमाउंट पे करना होगा।

  • फास्टैग खरीदने और रीइशु करवाने की कॉस्ट
  • FasTag के साथ फर्स्ट मिनिमम रिचार्ज की कॉस्ट
  • फास्टैग खरीदने के लिए सिक्योरिटी अमाउंट
  • FasTag की रिचार्ज अमाउंट लिमिट

FasTag खरीदने और नवीनीकरण करवाने की खर्च

  • जब आप पहली बार FasTag को ख़रीदते हो तो 100 रूपये पे करने पड़ेंगें यह सिर्फ एक बार लगेगा यानि कि हर साल इसे पे करने की जरुरत नहीं है।
  • FasTag के खो जाने या खराब हो जाने पर उसे दोबारा भी जारी कराया जा सकता है। दोबारा जारी करने के लिए भी 100 रुपए देने पड़ेंगे।

FasTag के साथ फर्स्ट मिनिमम रिचार्ज की कॉस्ट

  • पहली बार FasTag लेते समय मिनिमम रिचार्ज करवाना पड़ता है जो कि आपके व्हीकल के अकॉर्डिंग 100 से 300 रुपए तक हो सकता है।
  • FasTag के अकाउंट मैं बैलेंस ख़त्म होने पर उसे फिर से रिचार्ज करवाना होगा।
टाइप्स ऑफ़ व्हीकलमिनिमम रिचार्ज अमाउंट (रुपए)
कार / जीप / वन / मिनी लाइट कमर्शियल व्हीकल100 रुपए
लाइट कमर्शियल व्हीकल140 रुपए
बस 3axle300 रुपए
ट्रक 3axle300 रुपए
मिनी बस / ट्रक 2axle300 रुपए
ट्रेक्टर / ट्रेक्टर विथ ट्रॉली, ट्रक 4 ,5 ,6  axle300 रुपए
ट्रक 7 axle और इससे बड़े300 रुपए
हैवी कंस्ट्रक्शन मशीनरी300 रुपए

 

FasTag खरीदने के लिए सिक्योरिटी अमाउंट

  • FasTag को खरीदने के साथ आपको कुछ सिक्योरिटी अमाउंट भी देनी होगी। यह सिक्योरिटी अमाउंट आपके व्हीकल के साइज और टाइप के हिसाब से अलग-अलग होगा।
  • यह अमाउंट 200 से 500  हो सकता है।यह अमाउंट रिफंडेबल होगा यानि कि FasTag को कभी भी वापिस करने पर यह अमाउंट भी वापिस लिया जा सकता है।
टाइप्स ऑफ़ व्हीकलसिक्योरिटी डिपॉज़िट (रुपए)
कार / जीप / वन / मिनी लाइट कमर्शियल व्हीकल200 रुपए
लाइट कमर्शियल व्हीकल300 रुपए
बस 3axle400 रुपए
ट्रक 3axle500 रुपए
मिनी बस / ट्रक 2axle400 रुपए
ट्रेक्टर / ट्रेक्टर विथ ट्रॉली, ट्रक 4 ,5 ,6  axle500 रुपए
ट्रक 7 axle और इससे बड़े500 रुपए
हैवी कंस्ट्रक्शन मशीनरी500 रुपए

 

FasTag की रिचार्ज अमाउंट लिमिट

  • FasTag को बाद में कभी भी रिचार्ज करवाने के लिए मिनिमम अमाउंट 100 रुपए और मैक्सिमम अमाउंट 1 लाख रूपए तक किया जा सकता है ।
  • अगर अपने FasTag अकाउंट के साथ KYc लिंक नहीं करवाया तो फिर आप सिर्फ मैक्सिमम 20 हजार रूपए तक का रिचार्ज ही करवा सकते है।
  • कम्प्लीट के वाई सी वाले अकाउंट होल्डर्स को एक लाख रूपए तक का रिचार्ज करवाने कि छूट है।
  • अपने अकाउंट की के वाई सी को कम्प्लीट करवाने के लिए आपको आधार कार्ड के साथ पैन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस या मनरेगा जॉब कार्ड में से कोई एक आई डी प्रूफ की जरुरत है।

Helpline For FasTag

FasTag से रिलेटेड सभी प्रोब्लेम्स ( जैसे ठीक से स्कैन न होना, डैमेज हो जाना और अकाउंट में पैसे होते हुए भी टोल टैक्स नहीं दे पाना ) फोनकॉल से ठीक हो सकती है। नेशनल हाईवे ऑथोरिटी के नेशनल हेल्पलाइन नंबर 1033 पर कॉल करके या हाईवे ऑथोरिटी की वेबसाइट www.ihmcl.com या MyFastTag ऐप से सारी प्रोब्लेम्स सॉल्व कर सकते है।

अभी शुरुवाती दिनों में कुछ-कुछ प्रॉब्लम्स सामने आ रही है जैसे पुअर इंटरनेट कनेक्शन, बैंकों में भरी भीड़ और टोल प्लाजाओं पर भी जाम कि स्थिति हो रही है। पर धीरे-धीरे स्थिति ठीक होती जा रही है।

टोल प्लाजा से गुजरने वाले अपने समय कि बचत होने से तथा वर्कर्स अपने वर्कलोड में कमी आने से सभी बहुत खुश है। मॉडर्न भारत की मॉडर्न सोच सभी के लिए फायदेमंद है।

Join Our Telegram Channel

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here