ECG Full Form In Hindi – ECG Ka Full Form Kya Hota Hai?

ECG Full Form In Hindi – ECG एक ऐसी technology है जिसका इस्तेमाल medical field में किया जाता हैं। इस machine के द्वारा मरीज़ के heart beat को नापा जाता है। अपने अक्सर movies या फिर TV shows में देखा होगा कि heart beat को देखने के लिए doctors एक machine का उपयोग करते है। जिसमे की एक graph सा चलता हुआ दिखाई देता है और उसके साथ मे numbers भी होते है। वह graph ही होता है और number ही होता है जिससे कि इस बात का doctors आसानी से पता लगाते है कि मरीज़ का heart normal काम कर रहा है। फिर normal से तेज़ या धीरे काम कर रहा है।

जैसा कि आपको पता ही है कि हमारी body में heart का कितना महत्व हैं। बिना इसके इंसान तथा जीव कोई भी जिंदा नही रह सकता है। heart हमारे पूरे शरीर मे खून को pump करता है। तथा शरीर में oxygen को भी पहुँचता है। और Corbon dioxide को बाहर निकलता है। आज में समय मे ऐसे बहुत से smart gadgets आ गये है जिसके द्वारा आप खुद अपने घर पर भी अपने शरीर के oxygen level की जांच कर सकते है।

तक कि smart watches में भी ऐसे features मौजूद होते है। जो कि आपकी heart beat को measure कर लेते है। तथा आपको किसी प्रकार की असमानता होने पर आपको इक़तलाह भी कर देते है। जिससे कि समय रहते आप doctor से सलाह ले सकते है और एक बड़ी अनहोनी से बच सकते है।

तो चलिए ECG के बारे में विस्तार से जान लेते है। कि ECG क्या होता है। इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है।

ECG क्या होता है। ECG का Full Form क्या है।

what is the full form of ecg

Ecg का full form electrocardiography होता है। जिसकी मदद से आपके heart के विद्युत तरंगों को नापा जाता है। तथा machine पर record किया जाता है। जिसकी मदद से आपके heart की performance को समझने में मदद मिलती है। heart की प्रतेक धड़कन एक electric signal की वजह से होती है। इसी signal की मदद से heart की मासपेशियां संकुचित होती है जिससे कि heart से blood प्रवाहित करती है।

  • ECG की मदद से doctors को यह पता चलता है। कि heart की electric signal तेज़, धीमी या सामान्य है।
  • Heart को सामान्य से ज्यादा कार्य करना पड़ रहा है या ये सामान्य से बड़ा तो नही हो गया है।
  • इससे जानने में मदद मिलती है कि कहि दिल के दौरे से Heart की मासपेशियो को कुछ नुकसान तो नही हुआ है।

ECG किस लिए इस्तेमाल किया जाता है।

ECG आपके heart के electric signals की एक image record करता है। परंतु यह केवल तभी हो सकता है जब कि मरीज को monitor किया जा रहा हो। हालांकि बहुत सी normal heart से जुड़ी समस्याएं आती रहती है। जिनको नियमित उपचार से आसानी से सही किया जा सकता है। तो चलिए जान लेते है इसका इस्तेमाल क्यो और कब किया जाता है।

  • Stress est – कुछ समस्याएं केवल exercise के समय ही पता लगाई जा सकती है। जिसके लिए आपका test तब किया जाता है। जब आप exercise कर रहे हो। अक्सर hospitals में इस तरह के process में ट्रेडमील पर दौड़ते हुए ECG TEST किया जाता है।
  • Holter monitor- holter monitor में आपके दिल की गतिविधियों को 24 से 48 घंटो के लिए monitor किया जाता है। ताकि doctor बीमारी का पता लगा सके। इसमे आपके छाती पर इलेक्ट्रोड्स मशीन को लगाया जाता है जोकि potable machine है तथा यह battery से चलती है।
  • Event recorder- यह मुख्य रूप से उन बीमारियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिनके लक्षण काफी देर बाद दिखाई देते है। इसकी खाश बात यह होती है कि यह आपके heart beat को तब recode करता है जब बीमारी के लक्षण आपमे दिखाई देते है। कुछ event recorder automatic होते है जो कि लक्षण दिखने के बाद ही खुद ही recode करना शुरू कर देते है। वही कुछ में आपको button दबाना पड़ता है।

ECG Process के दौरान इसमे दर्द भी होता है।

जब आप किसी भी hospital में ECG test करवाने जाते है। तो उस दौरान आपको अपने chest के ऊपर के कपड़े उतारने या हटाने पड़ते है। ताकि electric signals को पड़करने वाले pads को आपके chest पर चिपकाया जा सके। लेकिन उसे चिपकाने से पहले आपके chest पर कुछ liquid को लगाया जाता है। जिससे कि कई बार कुछ लोगो के शरीर पर Side effects  देखा गया है। लेकिन वो खुद ही ठीक हो जाते हैं। बिना किसी medicine के, परन्तु आपको फिर भी एक बार doctor से सलाह ज़रूर ले लेनी चाहिए यदि आपको कुछ Side effect दिखाई देता है तो।

सीने के साथ साथ पैड्स को आपके हाथों तथा दोनों पाउ पर भी लगाया जाता है। फिर इसके बाद machine आपके heart की गतिविधियों को recorde करती है। यह process बहुत ही जल्दी और तेज़ी से होता है। जिसमे की 20 seconds तक का समय लगता है। इस दौरान आपको सीधे बिना हिले डुले लेटे रहना है। तथा आपको test के दौरान बिल्कुल भी बात नही करनी चाहिए। ताकि सही जानकारी recorde हो सके। इन process में आपको बिल्कुल भी किसी भी प्रकार का दर्द या electric shock नही महसूस होगा। तथा आपको पता भी नही लगेगा कि आपका test कब complete हो  गया है।

टेस्ट करवाने जाने से पहले आप अपने chest पर किसी भी प्रकार का lotion का उपयोग न करे। क्योंकि ऐसा करने से chest पर pads को चिपकने में परेशानी होती है। और हमेशा soft और हल्का कपड़ा पहन कर जाए, इसके इलावा आप चाहे तो hospital के द्वारा दिया हुआ गाउन कोपहन सकते है। और उसके बाद अपना ECG test करवा सकते है।

Ecg Testing से पहले क्या नही करना चाहिए

Ecg testing से पहले आपको ठंडा पानी नही पीना चाहिए तथा exercise भी नही करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से सही परिणाम नही आते है। तथा testing के दौरान report में गड़बड़ी हो सकती है।

ECG करवाने के क्या फायदे है।

समय समय पर ECG test करवाने के काफी फायदे होते है,जैसे कि आपको अपनी heart के health के पता रहता है। तो चलिए इसके फायदों के बारे में जान लेते है।

  • आपको अपने heart health की जानकारी रहती है।
  • किसी भी heart से जुड़ी समस्याओं का समय रहते पता लगाया जा सकता है और उसका सही समय पर उपचार किया जा सकता है।
  • Heart attack जैसी समस्याओं से बचाव रहता है।
  • अनचाही मृत्यु से काफी हद तक बचाव रहता है।

Heart से जुड़ी बीमारियों से दूर रहने के लिए क्या करना चाहिए।

अगर आपको अभी से ही स्वास्थ्य रहना है और चाहते है कि आप बढ़ते उम्र के साथ बीमारियों से दूर रहे तो आपको आज से ही अपने नियमित schedule में कुछ सुधार करने होंगे। तो चलिए जानते है कि अपने शरीर से बीमारियों को दूर रखने के लिए आपको क्या daily life में changes करने होंगे।

  • सबसे पहले तो यदि आपको सुबह देर से उठने और रात को देर से सोने की आदत है तो उसे बदलना होगा। आपको रोज़ सुबह 4 या 5 बजे उठ कर morning walk के लिए जाना चाहिए।
  • Morning walk से आकर एक दम से किसी चीज़ का सेवन नही करना चाहिए।
  • आपको अपना सुबह का नाश्ता सही समय यानी कि 8 से 9 बजे के बीच मे कर लेना चाहिए। और नास्ते में lite खाना ही खाना चाहिए तथा fruit juice का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • Oily foods का सेवन बिल्कुल बंद या बहुत कम करना चाहिए।
  • रोज़ दिन में एक बार फल ज़रूर खाना चाहिए जैसे सेब, केले, पपीता, कीवी आदि।
  • दोपहर के खाने के बाद आपको कुछ देर का rest जरूर लेना चाहिए।
  • हो सके तो आप अपनी fitness को maintain रखने के लिए gym भी join कर ले।
  • रात को खाना खाने के बाद थोड़ी देर walk जरूर करे।
  • नियमित तौर पर अपने health की जाँच जरूर करवाते रहे। ताकि होने वाली बीमारियों से पहले ही निपटा जा सके।

Tips ECG Full Form

इस post में आप ने ECG के बारे में जाना कि ECG क्या होता है इसका Full Form क्या होता है और ECG क्यो किया जाता है। तथा समय समय पर ECG करवाने से आपको क्या फायदे होते है। और क्या ECG से किसी प्रकार का नुकसान भी होता है।

दोस्तों आज के समय में लोगो को heart से जुड़ी और स्वाश से जुड़ी काफी समस्याएं आ रही है। जिसका कारण है unhealthy food. आज के समय मे हम लोग बाहर का तला हुआ खाना खाना अधिक पसंद करते है बजाय घर के खाने के, जिस कारण आज के समय मे महज 30 साल के उम्र वाले लोगो को भी heart से जुड़ी समस्याएं आनी शुरू हो गयी है।

जिस कारण बहुत से लोग कम उम्र में ही heart attack के शिकार हो जाते है। कुछ लोग को कई बार बात करते करते ही गिर जाते है तथा समय पर उपचार न मिलने से मृत्यु भी हो जाती है। इन सब चीज़ों से बचने के लिए आपको समय समय पर ECG test करवाना चाहिए ताकि अगर किसी प्रकार ली बीमारी आपके heart के साथ उत्पन्न हो रही है। तो आप उसका समय रहते इलाज करवा सके।

वैसे तो आपको हमेशा healthy food ही खाना चाहिए और रोज़ सुबह exercise करना चाहिए, जिससे कि आपका शरीर स्वास्थ्य रहता है। और आप बीमारियों से भी मुक्त रहते है।

दोस्तों आपको हमारी ECG Full Form के ऊपर दी गई यह जानकारी कैसी लगी आप हमें comment box में ज़रूर बताएं और इस post को अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ भी share करे ताकि उनको भी इस से जुड़ी जानकारी हो सके।

Join Our Telegram Group

Read More

Mr. Samir HFT के Co-Author & Founder है इन्हे हमेशा से नयी चीजे सिखना और उसे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. अगर आपको इनके द्वारा शेयर की गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप इन्हे Social Media पर फॉलो कर सकते है। Thank You!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here