DNA Full Form In Hindi – DNA Ka Full Form Kya Hota Hai?

DNA Full Form In Hindi – DNA एक मेडिकल Term है जिसके बारे में आज हम यहाँ बात करने जा रहे हैं। वैसे तो कई प्रकार की Medical Term ऐसी होती हैं जिनके बारे में हमें जानकारी होना चाहिए। लेकिन फिर भी अगर ऐसा नहीं है तो भी यहाँ हम आपको एक बहुत ही अहम् Medical Term के बारे में बताने जा रहे हैं। DNA जेम्स वाटसन और फ्रैंकिस क्रिक की एक बहुत अहम् खोज है जिसके बारे में हम बात करने जा रहे हैं। तो आईये पहले DNA का Full Form क्या होता है।

DNA क्या है? DNA Full Form In Hindi

what is the full form of dna

DNA का पूरा नाम यानि Full Form “DeoxyriboNucleic Acid” है। (डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल) जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाले तंतुनुमा अणु को डीएनए कहा जाता है डीएनए का एक अणु चार अलग-अलग वस्तुओं से मिलकर बना होता है जो न्युक्लियोटाइड कहलाता है। इन न्युक्लियोटाइडों  को एडेनिन, ग्वानिन, थाइमिन और साइटोसिन कहते है। हर न्युक्लियोटाइड में एक नाइट्रोजन युक्त वस्तु  होती है डीएनए के एक अणु की संरचना एक घुमावदार सीढ़ी की तरह होती है डीएनए हर एक जीवित कोशिका के लिए  जरुरी है।

इन न्यूक्लियोटाइडों से युक्त डिऑक्सीराइबोस नाम का एक शक्कर भी पाया जाता है। इन न्यूक्लियोटाइडों को एक फॉस्फेट का अणु आपस में जोड़ती है। न्यूक्लियोटाइडों के सम्बन्ध के अनुसार एक कोशिका के लिए अवश्यक  प्रोटीनों का  निर्माण होता है। डीएनए के मध्यम से आनुवंशिकता की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। एक वंशावली डीएनए परीक्षण एक डीएनए- आधारित परीक्षण है जो किसी व्यक्ति के जातीय मिश्रण का अनुमान लगाने के लिए पिता के वंश के  संबंधों को खोजने या सत्यापित करने के लिए किसी व्यक्ति के जीनोम के विशिष्ट स्थानों को देखता है।

चूंकि विभिन्न परीक्षण Company अलग-अलग जातीय संदर्भ समूहों और विभिन्न मिलान एल्गोरिदम का उपयोग करती हैं, इसलिए किसी व्यक्ति के लिए जातीयता का अनुमान परीक्षण कभी-कभी भिन्न होता है।

DNA कितने प्रकार के होते है

DNA मुख्यतः तीन प्रकार के होते है। तीन प्रमुख प्रकार के वंशावली डीएनए परीक्षण हैं: एक्स-डीएनए और ऑटोसोमल, वाई-डीएनए और एमटीडीएनए।

ऑटोसोमल परीक्षण गुणसूत्र 1–22 और एक्स को देखते हैं। ऑटोसोम (गुणसूत्र 1–22) माता-पिता और सभी हाल के पूर्वजों से विरासत में मिलते  हैं। एक्स-गुणसूत्र एक विशेष वंशानुक्रम पैटर्न कों follow  करता है। इस तरह के परीक्षण के साथ जातीयता का अनुमान अक्सर शामिल किया जाता है।

वाई-डीएनए वाई-क्रोमोसोम को देखता है, जो बेटे को पिता से विरासत में मिला है, और इसलिए केवल पुरुषों द्वारा उनकी प्रत्यक्ष पैतृक रेखा का पता लगाने के लिए किया जा सकता है।

DNA माइटोकॉन्ड्रिया को देखता है, जो माँ से बच्चे को विरासत में मिला है और इसलिए इसका उपयोग प्रत्यक्ष मातृ रेखा का पता लगाने के लिए किया जा सकता है।

DNA परिक्षण की प्रक्रिया क्या है

एक डीएनए परीक्षण पर एक वंशावली डीएनए परीक्षण किया जाता है। यह डीएनए नमूना एक गाल-स्क्रैपिंग,  थूक-कप, माउथवॉश और च्युइंग गम द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। आमतौर पर, नमूना संग्रह एक सेवा प्रदाता द्वारा दी गई होम टेस्ट किट का उपयोग करता है जैसे कि 23andMe ,  Ancestry DNA ,  फैमिली ट्री डीएनए या My Heritage।  किट के निर्देशों का पालन करके नमूना एकत्र करने के बाद, यह नमूना आपूर्तिकर्ता को विश्लेषण के लिए वापस कर दिया जाता है।

DNA परिक्षण के क्या लाभ है

वंशावली डीएनए परीक्षण एक व्यक्ति को उच्च सटीकता के साथ निर्धारित करने की अनुमति देता है कि क्या वह एक निश्चित समय सीमा के भीतर किसी अन्य व्यक्ति से संबंधित है, या उसके साथ वह संबंधित नहीं है। सिविल रिकॉर्ड की तुलना में डीएनए परीक्षणों को अधिक Scientific और निर्णायक माना जाता है। जिनका अध्ययन किया जा सकता है। रिकॉर्ड हमेशा ही उतने ही सटीक होते हैं, जितने कि जानकारी प्रदान करने वाले या लिखित रूप में दिए गए व्यक्ति हों।

वाई-डीएनए परीक्षण के परिणाम को आमतौर पर संभाव्यता के रूप में कहा जाता है: उदाहरण के लिए, एक ही उपनाम के साथ एक संपूर्ण 37/37 मार्कर परीक्षण मैच 8 पीढ़ियों के भीतर सबसे हाल के सामान्य पूर्वज (MRCA) के 95% संभावना देता है, जबकि 111 मार्कर मैच के 111 एमआरसीए की 95% संभावना केवल 5 पीढ़ियों के भीतर होने की संभावना देता है।

जैसा कि mtDNA परीक्षण में ऊपर प्रस्तुत किया गया है, यदि एक सही मिलान पाया जाता है, तो mtDNA परीक्षण परिणाम सहायक हो सकते हैं। कुछ मामलों में, पारंपरिक वंशावली विधियों के अनुसार अनुसंधान कई संस्कृतियों में नियमित रूप से रिकॉर्ड किए गए मैट्रिलिनल उपनाम जानकारी की कमी के कारण कठिनाइयों का सामना करना पढता है

DNA परिक्षण के क्या हानियाँ है

वंशावली डीएनए परीक्षण के बारे में आम चिंताएं Cost और गोपनीयता के मुद्दे हैं। कुछ परीक्षण कंपनियां इन विषयों के साथ गोपनीयता Agreement के बिना अपने स्वयं के उपयोग के लिए नमूने और परिणाम बनाए रखती हैं।

ऑटोसोमल डीएनए परीक्षण रिश्तों की पहचान कर सकते हैं लेकिन उनकी गलत व्याख्या की जा सकती है। उदाहरण के लिए, स्टेम सेल या अस्थि मज्जा के प्रत्यारोपण दाता के साथ मेंल का उत्पादन करेंगे। इसके अलावा,जिनके पास समान डीएनए है इसलिए स्थिति में गलत परिणाम दे सकता है।

असामान्य उत्परिवर्तन, गुप्त गोद लेने और गैर-पितृत्व घटनाओं के कारण पिता से पुत्र तक वाई-डीएनए वंश का परीक्षण बहुत कठिन  हो सकता है (अर्थात, एक पीढ़ी में कथित पिता लिखित जन्म रिकॉर्ड द्वारा अंकित पिता नहीं है)।

ऑटोसोमल परीक्षण दूर के पूर्वजों से डीएनए के “बड़े हिस्से” का पता नहीं लगा सकते क्योंकि यह विरासत में नहीं मिला है।

जातीयता परीक्षणों के लिए डीएनए परीक्षणों के उपयोग की बढ़ती लोकप्रियता के साथ, जातीयता अनुमानों में अनिश्चितता और त्रुटियां आनुवंशिक वंशावली के लिए एक दोष हैं। जबकि महाद्वीपीय स्तर पर जातीयता का अनुमान सटीक होना चाहिए (पूर्वी एशिया और अमेंरिका के संभावित अपवाद के साथ), उप-महाद्वीपीय अनुमान, विशेष रूप से यूरोप में, अक्सर गलत होते हैं। ग्राहकों को अनुमानों की अनिश्चितताओं और त्रुटियों के बारे में गलत जानकारी दी जा सकती है।

कई कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने DNA की जानकारी जारी करने के लिए DNA कंपनियों को मजबूर करने के लिए कानूनी कार्रवाई की, जो अपराध पीड़ितों या अपराधियों से मेंल खा सकती है। ऐसे कई कंपनियों ने अपनी लड़ाई लड़ी है।

वंशावली सॉफ्टवेयर में डी.एन.ए.

कुछ वंशावली सॉफ्टवेयर प्रोग्राम जैसे कि फैमिली ट्री मेंकर, लिगेसी फैमिली ट्री (डिलक्स एडिशन) और स्वीडिश प्रोग्राम गेनी- डीएनए मार्कर टेस्ट रिजल्ट रिकॉर्ड करने की अनुमति देते हैं। यह वाई-क्रोमोसोम और mtDNA दोनों परीक्षणों पर नज़र रखने और रिश्तेदारों के लिए परिणाम रिकॉर्ड करके रखने की अनुमति देता है।

चिकित्सा जानकारी

हालाँकि, वंशावली डीएनए परीक्षण मुख्य रूप से मेंडिकल पर्पस के लिए डिज़ाइन नहीं किए गए हैं, लेकिन ऑटोसोमल डीएनए परीक्षणों का उपयोग सैकड़ों  चिकित्सा स्थितियों की कंडीशन  कों  समझने  के लिए किया जा सकता है, यद्यपि परिणाम समझने के लिए कठिन है और एक Non-Expert  को भ्रमित कर सकता है।

डीएनए फिंगरप्रिंटिंग के फायदे

वैसे तो DNA के टेस्ट के लिए कई तरीके अपनाये जाते हैं और कई चीज़ों के द्वारा DNA टेस्ट करवाया जा सकता है लेकिन यहाँ हम देखेंगे कि DNA Fingerprint के फायदे क्या हैं? लगभग 30 साल पहले सर एलेक जेफरीस ने डीएनए फिंगरप्रिंटिंग को खोजा और इस खोज से पूरे विश्व में तहलका मच गया। और विज्ञान भी एक नई खोज के लिए पहचाना जाने लगा। इसके कई फायदे हुए और सबसे जयदा फायदा हुआ अपराधियों को पकड़ने के लिए। डीएनए फिंगरप्रिंटिंग के द्वारा अपराधियों को पकड़ना बहुत ही आसान हो गया। इससे कानून को काफी मदद मिली।

सर एलेक जेफरीस ने स्वयं यह बोला कि इस खोज के बाद 30 सेकंड में उनकी भी दुनिया बदल गई। 1984 में इसकी खोज हुई और इसके बाद 1985 में सर एलेक जेफरीस ने अपनी टीम के साथ अपना पहला Case सम्हाला। उस समय एक वकील जो प्रवासन के Case में फंस गई थी उन्होंने सर एलेक जेफरीस को एक पत्र लिखा और उनसे पूछा कि क्या DNA फिंगरप्रिंट इस Case में इस्तेमाल किया जा सकता है। तब इन्होंने उसके लिए मदद कि थी।

क्या सम्बन्ध को सामने लाने के लिए DNA काफी है?

टीवी, Social Media और Entertainment World की वजह से DNA को सबके सामने लाया जा सका। इसका इस्तेमाल पितृत्व स्थापित करने के लिए भी किया जाता है। इसको काफी अच्छे तरीके से Entertainment World में दिखाया गया। वैसे तो DNA के Result सटीक मिलते हैं लेकिन कभी-कभी DNA Sample Change होने कि वजह से Result भी चेंज हो सकता है। अपराध के मामलों में अधिकतर ऐसा किया जाता है जो स्वयं ही एक अपराध है।

रेकॉम्बीनैंट DNA

रेकॉम्बीनैंट DNA भी आज के समय में बहुत प्रचलित है क्योंकि इससे भी कई चीज़ों को Identify करने में सहायता मिलती है। अब बात आती है कि रेकॉम्बीनैंट DNA होता क्या है? रेकॉम्बीनैंट DNA दो या दो से ज्यादा स्त्रोतों को संयोजित करके बनाया जाता है इसलिए ही इसका नाम रेकॉम्बीनैंट DNA है। कई जीवों के DNA जोड़ने के कारण के कारण ही इसे रेकॉम्बीनैंट DNA कहा जाता है। इस प्रक्रिया में Cut एंड Combine को Preference दिया जाता है। इसमें एक प्रतिबंधन साइट भी होती है जिसमें डीएनए अणुओं को न्यूक्लियोटाइड Base के विशिष्ट अनुक्रमों से पहचाना जाता है।

रेकॉम्बीनैंट DNA का निर्माण

स्टेनले कोहेन और रोबर्ट बोयर ने सन 1972 में प्लाज्मिड से DNA के एक भाग Cut करके परिक्षण किया था। और इसके बाद रेकॉम्बीनैंट DNA का निर्माण हुआ और यह अस्तित्व में आया। Restriction Enzyme को आणविक कैची के नाम से भी जाना जाता है। यह DNA को कई विशिष्ट जगहों से काटने के लिए आणविक कैची का प्रयोग किया जाता है।

रेकॉम्बीनैंट DNA के प्रकार

रेकॉम्बीनैंट DNA के दो प्रकार होते हैं: एंडोन्यूक्लियसेस (Endonucleases) और एक्सोन्यूक्लियसेस (Exonucleases)। Endonucleases  DNA स्ट्रैंड के अंदर ही कटना संभव है जबकि Exonucleases DNA में स्ट्रैंड्स के Last के भाग से न्यूक्लियोटाइड को हटाते हैं।

डीएनए टेस्ट क्यों किया जाता है?

यह एक बहुत ही अहम् सवाल है जिसका उत्तर हर कोई जानना चाहता है कि आखिर DNA Test क्यों कराया जाता है। इसके कई सारे कारण है जिन्हें जानना बहुत जरुरी है जैसे:

आईवीएफ (IVF- In Vitro Fertilization)

आईवीएफ (IVF- In Vitro Fertilization) मुद्दे के लिए DNA Test आज के समय में बहुत जरुरी हो गया है। प्रसव के मामलों में आज के समय में बहुत वृद्धि हुई है। और साथ ही प्रजनन केंद्रों को पुरे भारत और पुरे विश्व में प्रारम्भ किया गया है। इसकी मदद से Ovum और Sperm लेकर प्रजनन प्रकिर्या पूरी की जाती है इससे कई दंपत्ति का भला भी होता है।

लेकिन यह जरुरी नहीं है कि ये Ovum और Sperm हमेशा माता पिता के ही हों। लेकिन इस प्रजनन प्रक्रिया से कई लोगों को फायदा मिला है। इसका Success Rate काफी अधिक है। और कोशिश की जाती है कि माता पिता के Ovum और sperm से Fertilization हो लेकिन कभी-कभी ऐसा न होने पर अलग Ovum और Sperm का प्रयोग किया जाता है।

अस्पताल में अदला–बदली

यह एक समस्या है क्योंकि देश में बेमानी भी बढ़ गई है और लोगों को इस बात कि पुष्टि करना होता है कि बच्चा उनका ही है। और यह जानना गलत भी नहीं है। कई बार भूल कर और कई बार जान बूझकर अस्पताल में बच्चों की अदला-बदली कर दी जाती है। माता-पिता का यह शक दूर करने के लिए DNA Test एक अच्छा और सटीक विकल्प है।

विरासत उद्देश्य

ये बहुत ही Common मुद्दा है क्योंकि कई बार इया तरह की बात परेशानी के रूप में सामने आया है जिसमें विरासत के असली हक़दार का पता लगाना होता है। वैसे विरासत उद्देश्य के लिए यह एक बहुत अच्छा उद्देश्य है जिसे आज के समय में बहुत अधिक अपनाया जा रहा है। और इससे असलियत का पता लगाना बहुत आसान हो जाता है।

इमीग्रेशन का उद्देश्य

कई बार कई देशों में नागरिकता देने के पहले परिवार वालों और व्यक्ति के बीच सम्बन्ध को Proof करना होता है। और इसके लिए भी DNA  Test एक बहुत उम्दा विकल्प है जिससे व्यक्ति को आसानी पूर्वक नागरिकता मिलना संभव हो जाता है। क्योंकि इससे व्यक्ति और परिवार वालों के बीच सम्बन्ध है यह Proof करना आसान हो जाता है।

इस प्रकार से DNA के कई फायदे हैं और यह एक बहुत ही उम्दा खोज है जिसने कई अपराधों को सामने लेकर आया और कानून की मदद की, कई परिवार वालों की मदद की। और यह बहुत आसानी पूर्वक किया जाने वाला Test है मतलब किसी व्यक्ति के एक बाल से भी यह टेस्ट किया जाना संभव है।

Tips

हमे उम्मीद है कि आपको DNA क्या है और इसका इस्तेमाल कहा किया जाता है एवं Full Form क्या होता है (DNA Full Form In Hindi) ये सब अच्छे से समझ मे आ गया होगा अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे!

Read More

Mr. Samir HFT के Co-Author & Founder है इन्हे हमेशा से नयी चीजे सिखना और उसे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. अगर आपको इनके द्वारा शेयर की गई जानकारी अच्छी लगती है तो आप इन्हे Social Media पर फॉलो कर सकते है। Thank You!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here