CFL Full Form In Hindi – सीएफएल का फुल फॉर्म जानिए!

CFL Full Form, सीएफएल का फुल फॉर्म क्या होता है, इसमें कौन से पार्ट्स यूज़ किये जाते है. ये रोशनी कैसे उत्पन्न करता है आदि की जानकारी के लिए आगे पढ़ें।

CFL Full Form In Hindi – सीएफएल का फुल फॉर्म क्या होता है?

 

CFL Full Form

बता दें कि CFL का फुल फॉर्म “Compact Fluorescent Lamp” है. जिसे हिंदी में भी “कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लैंप” के नाम से जानते है. इस Bulb में फ्लोरोसेंट नाम का पदार्थ भरा जाता है. तथा ये सीएफएल कांच (Glass) एवं आर्गन से बनाया जाता है. जिसमे पारा भी कुछ मात्रा में यूज़ किया जाता है।

सीएफएल कुल मिलाकर 8 प्रकार के होते है. जो इस प्रकार है।

  1. Tube CFL Bulb
  2. Globe CFl
  3. Spiral CFL
  4. Circular CFL
  5. Candle Shape CFL
  6. Post CFL
  7. Reflector CFL
  8. Incandescent CFL

जानकारी के लिए बता दें C.F.L. साधारण बल्ब की तुलना में ज्यादा ऊर्जा की बचत करता है. हालांकि ये LED के मामले में थोड़ा पीछे है. क्योंकि इसमे दो इलेक्ट्रोड होते है साथ ही ग्लास (कांच) में आर्गन और पारा वाष्प का मिश्रण होता है. इसके अलावा अंदरूनी सतह में फस्फोर नामक पदार्थ की कोटिंग की जाती है।

CFL का अविष्कार किसने किया है?

आपके मन मे भी कभी ना कभी ये जानने की जिज्ञासा रही होगी कि इसका अविष्कार कैसे हुआ. तो बता दें कि इसे सन 1890 में “Peter Cooper Hewitt” ने खोजा था. और उस समय इसका प्राइस ज्यादा होने के कारण बड़ी इंडस्ट्रीस में ही प्रयोग कर पाना संभव था। लेकिन आम लोगो तक इसे लाने का श्रेय “Edward E. Hammer” को जाता है. जिसने 1976 में इसे Spiral यानी घुमावदार आकार दिया।

C.F.L. Work कैसे करता है?

रोशनी उत्पन्न करने के लिए इसमे तरह तरह के पार्ट लगे होते हैं. इसके लैंप में विद्युत प्रवाह करने वाला तार फिलामेंट से गुजरता है. जो रोशनी को पैदा करने के लिए फिलामेंट को गर्म करता है. इसके बाद आर्गन गैस और पारा के मिश्रण वाली ट्यूब से विद्युत पास होता है। जो वाष्प को सक्रिय करके पराबैंगनी प्रकाश को उत्सर्जित कर देता है. उसके बाद जब ये पराबैंगनी प्रकाश फस्फोर से कोटिंग की गई ग्लास यानी कांच के ट्यूब पर पड़ता है. तो ये सफेद प्रकाश में परिवर्तित हो जाती है।

वैसे अब तो C.F.L. का प्रयोग LED आने के बाद कम हो गया है. क्योंकि एक तरफ जहां सीएफएल थोड़ा महंगा पड़ता है तो वही दूसरी ओर Led इससे कम कीमत में मिल जाता है. हालाँकि एलईडी बल्ब प्लास्टिक के बने होते है। जिससे गिरने के बाद भी इनके टूटने का डर नही रहता. जबकि CFL को बनाने के कांच का प्रयोग होता है. जिसके गिरने पर ये आसानी से टूट जाते है और Useless हो जाते है।

Tips

So Friends I Hope की CFL का Full Form क्या है ये कैसे काम करता है. आदि चीजो को आपने जाना. अगर आपको ये जानकारी पसंद आई है तो इसे दोस्तो के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। साथ ही हमारी ब्लॉग तक पहुंचने के लिए आप गूगल में Hindi Free Tech लिखकर भी आ सकते है. Thanks For Reading & Keep Visit Again.

क्या आपने ये पढ़ा !

नमस्ते, मेरा नाम Samir है मै HFT का Co-Author & Founder हु मुझे हमेशा से नयी चीजे सिखने तथा उन्हे लोगो के साथ शेयर करना पसंद है. क्योकि मैं भी आपकी तरह ही हु. अगर आपको हमारा काम पसंद आता है तो हमे सोशल साईट पर फॉलो कर सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here