Blog Website Ka User Experience Kaise Improve Kare

अगर आपकी वेबसाइट User Experience के हिसाब से ऑप्टिमाइज्ट है तो इससे गूगल के 200+ रैंकिंग फैक्टर्स में से कई सारे फैक्टर्स कवर हो जाते हैं जो किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के लिए फायदेमंद होता है। आइये जानते है कि UX क्या है, क्यों महत्वपूर्ण है और वेबसाइट के लिए यूजर एक्सपीरियंस को कैसे बढ़ाया जाता है

यूजर एक्सपीरियंस क्या है – What is User Experience in Hindi

user experience

User Experience का अर्थ है कि “usability कैसी है।” किसी वेबसाइट को ध्यान रखते हुए USER EXPERIENCE की परिभाषा दें तो वो यह है कि “वेबसाइट विजिटर्स के interact करने के लिए कितनी आसान है यानि विजिटर्स आपकी साइट के साथ कैसा महसूस करते हैं!!!”

एक अच्छे user experience वाली साइट का अर्थ है कि

  • कोई विजिटर आपकी साइट आया,
  • जिस काम या जानकारी के लिए आया, उसे पाया,
  • साइट के अलग अलग पेजेस को विजिट किया,
  • समझा कि साइट किस बारे में है।

Note: Web Designing में User Experience एक बहुत बड़ी term है और हर वेब डिजाइनर को इसका ध्यान रखना पड़ता है।

यूजर एक्सपीरियंस क्यों महत्वपूर्ण है

किसी भी साइट के लिए यूजर एक्सपीरियंस बहुत महत्वपूर्ण है। इसके महत्वपूर्ण होने के कई सारे कारण हैं।
मान लीजिए कोई विजिटर आपकी साइट पर विजिट करता है लेकिन साइट पर बहुत ज्यादा ads लगे हुए हैं या नेविगेशन खराब है या कंटेंट को सही तरीके से नहीं लिखा गया है तो कोई भी विजिटर्स उस साइट को विजिट नहीं करना चाहेगा, उस पर टाइम बिताना नहीं चाहेगा। ऐसे में किसी भी साइट के लिए यूजर एक्सपीरियंस का महत्व बहुत ज्यादा बढ़ जाता है।

User Experience (UX) के अच्छा होने के फायदे:

  • Site की usability बढ़ जाती है
  • Bounce rate कम हो जाती है
  • Visuals के अच्छा होने से visitors को साइट आकर्षक लगती है
  • Site Value Increase होती हैं

Keep in mind: अगर आपकी wocommerce या shopify based कोई online product selling website है तो site’s user experience का role एक जनरल साइट की तुलना में बहुत ज्यादा बढ़ जाता है।
Blog Website का User Experience कैसे बढ़ायें – 7 Tips

Website Page Speed को बढ़ायें

किसी भी वेबसाइट के लिए पेज स्पीड बहुत मायने रखती है। अगर आपकी वेबसाइट slow load होती है यानि किसी विजिटर को आपके वेबपेज को लोड होने के लिए काफी wait करना पड़ता है तो यह सही नहीं है.

Fast Loading Website का होना वेबसाइट के यूजर एक्सपीरियंस को बढ़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है। आजकल लोग गूगल या अन्य किसी भी सर्च इंजन पर सर्च करते हैं तो fast results पाने की उम्मीद रखते हैं। अतः यह चेक कर लें कि आपकी वेबसाइट की स्पीड सही है अन्यथा कई सारे विजिटर्स आपकी साइट से बाउंस कर जाएंगे।

Site Speed को check करने के लिए Google Page speed Insights और GTMetrix जैसे कई टूल मौजूद हैं जो साइट को ऑनलाइन एनालाइज करते है। इन टूल्स पर आपको अपनी साइट के लिए स्पीड (Load Time) को improve करने के लिए सुझाव भी मिलते हैं।

वेबसाइट स्पीड बढ़ाने के टिप्स:

  • फास्ट होस्टिंग का चयन करें। अगर आप साइट से थोड़ी बहुत भी अर्निंग कर रहे हैं तो शेयर्ड होस्टिंग की बजाय क्लाउड होस्टिंग को प्राथमिकता दें।
  • Fast Loading Theme यूज करें
  • Images को compress करें
  • CDN का उपयोग कर सकते हैं
  • HTML, JavaScript & CSS Codes को minify करें। इसके लिए Autoptimize Plugin एक सही विकल्प है।

Site को Mobile Friendly रखें

आपकी साइट का Responsive और Mobile Friendly होना जरूरी है क्योंकि किसी भी सामान्य ब्लॉग या वेबसाइट का 90% से ज्यादा ट्रैफिक मोबाइल यूजर्स होते हैं।

आजकल गूगल ऐसी साइट्स को सर्च रैंकिंग से penalize भी कर रहा है जो मोबाइल फ्रेंडली नहीं है इसलिए अपनी वेबसाइट का ट्रैफिक बढ़ाने और यूजर एक्सपीरियंस को इंप्रूव करने के लिए इसे मोबाइल फ्रेंडली जरूर बनाएं।

अगर आप कोई आउटडेटेड या weak coding की हुई थीम use करते हैं तो यह समय proper optimized & fast loading theme उपयोग में लाने का हैं। कई सारे ऑनलाइन टूल्स मौजूद हैं जिनके द्वारा आप अपनी वेबसाइट mobile friendly है या नहीं, को चेक कर सकते हैं।

Navigation को Simple & Clear रखें

अक्सर नए ब्लॉगर वेबसाइट की डिजाइनिंग के दौरान यह गलती करते हैं कि वो site navigation को काफी complex बना देते है जो site’s user experience को बिगाड़ देता है।

आपको यह बात ध्यान में लाने की जरूरत है कि सही तरीके से डिजाइन की गई वेबसाइट यानि proper navigation वाली साइट्स यूजर एक्सपीरियंस को बढ़ाती है। इसका सबसे बड़ा फायदा होता है कि विजिटर्स इससे साइट के अन्य posts और pages
को विजिट करना पसंद करेंगे जो bounce rate को कम रहेगा। यह SEO के लिए जरुरी है।

Unwanted Widget और Sidebar को Use न करें

Blogging की शुरुआत में अक्सर यह देखा जाता है कि नये ब्लॉगर वेबसाइट को over optimized कर देते है यानि वे कैटेगरी, tags, recent posts, Facebook page, email subscription box, popular posts जैसी कई widget लगाते हैं लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। इससे साइट लोड स्पीड बढ़ती है और वेबसाइट को ओवर डिजाइन्ड माना जाता है।

अगर आपकी साइट ज्यादा बड़ी नहीं है या उसमें ज्यादा कंटेंट नहीं है तो उसे बहुत ज्यादा ऑप्टिमाइज्ट करने की बजाय यूजर एक्सपीरियंस को ध्यान में रखते हुए simple & clear रखना चाहिए ताकि वो fats loading बनें।
Related Posts & Popular Posts को widget के रूप में use कर सकते हैं, इससे ज्यादा widgets को add करने की जरूरत एक सामान्य ब्लॉग वेबसाइट को नहीं होती है।

Visuals का सही तरीके से उपयोग करें

Blog पर Visuals यानि photos और videos का proper use होना जरूरी है क्योंकि आपको यह बात ध्यान में रखने की है कि लोग text की बजाय visuals को अधिक याद रखते हैं।

आपकी वेबसाइट का लोगो (logo) किसी भी यूजर पर एक अच्छा impact डाल सकता है। साथ ही आपको अपनी साइट के लिए सभी सोशल साइट्स पर एक ही avatar (photo/dp) रखना चाहिए। यह ब्रांडिंग में हेल्प करता है।

Headings का Proper Use करें

हेडिंग का सही तरीके से यूज होना users के लिए वेबपेज पर उपलब्ध कंटेंट को समझने में बेहद मददगार होता है।

Headings को हमेशा सही क्रम में use करना चाहिए जैसे H2>H3>H3 या H2>H4>H4. यह search engines को साइट के content को भी समझने में मदद करते हैं।

लिखने के तरीक़े को बेहतर बनायें

किसी भी टॉपिक को अच्छे से व्यक्त करने के लिए उसे सही तरीके से लिखना जरूरी है अन्यथा कोई भी यूजर उसे पढ़ना पसंद नहीं करेगा।

लिखना एक कला है और यह कला ही आपके ब्लॉग को वेबसाइटों के समुद्र में ऊपर लायेगी, unique बनायेगी।

Blog Writing Skills को improve कैसे करें:

  • Best Quality Content लिखने के लिए distractions से बचें और post topic के अनुसार ही content लिखें।
  • आर्टिकल को कम शब्दों में लिखने के लिए bullet points का यूज करें। इससे यूजर्स उसे सही तरीके से समझ पाते हैं क्योंकि कई बार किसी चीज को proper way में समझाने के लिए लम्बा लेख लिखना पड़ता है लेकिन bullet points इस काम को आसान कर देते हैं।
  • Content को लिखते समय Grammatical Mistakes का ध्यान रखें
  • Call to actions का use करें
  • किसी भी पोस्ट को पब्लिश करने से पहले उसे एक बार proof read अवश्य करें।

इन सबके अलावा कई सारी छोटी छोटी चीजें हैं जिन्हें site के user experience को improve करने के लिए ध्यान में रखना चाहिए जैसे Site theme, color, font size, font type & many more. अगर आप इस बारे में और ज्यादा डिटेल से जानना चाहते हैं तो usability(dot)com जैसी साइट्स को सीख सकते हैं।

We Hope आपको यह Website User Experience को Improve करने की टिप्स पसंद आई होगी। इस बारे में comment box में अपने विचार शेयर करें।

Join our telegram group

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here